माता-पिता को कब बच्चों के लिए घरेलू उपचारों का उपयोग नहीं करना चाहिए

Read in English
When to use home remedies for kids and when to avoid

हम सब पहले खुद को डॉक्टर समझने लगते हैं और अपने बच्चे की कई समस्याएं और इंफेक्शन को घर में हीं ठीक करने के बारे में सोचने लगते हैं। कई बार इसकी वजह से बच्चे की इंफेक्शन और समस्या और बढ़ जाती है। लेकिन कई ऐसे इंफेक्शन और एलर्जी होते हैं जिसकी जानकारी नहीं होने के कारण बच्चों को असहजता महसूस होने लगती है, तो ऐसे में डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी हो जाता है। बहुत से ऐसे घरेलू उपचार होते हैं जो माता-पिता अपने बच्चों पर आजमाते हैं। हालांकि घरेलू उपचार के कोई दुष्प्रभाव नहीं होते हैं, लेकिन जब बात बच्चे की आती है तो आपको खास ध्यान देने की जरूरत होती है क्योंकि वो किसी भी से जल्दी प्रभावित हो जाते हैं। तो ऐसे में आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आपको अपने बच्चे के लिए घरेलू उपचार का उपयोग कब करना चाहिए और कब नहीं। इंफेक्शन, एलर्जी और कई अन्य समस्याओं को ठीक करने के लिए आपको अपने बच्चे को डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए। [ये भी पढ़ें: खाद्य पदार्थ जिनके सेवन से अपने बच्चे को रखें दूर]

घरेलू उपचार बच्चों के लिए कब फायदेमंद होता है और माता-पिता को इसका उपयोग कब करना बंद करना चाहिए?

घरेलू उपचार किसी भी समस्या को जड़ से खत्म नहीं करते हैं। यह नवजात शिशु या किसी व्यक्ति को थोड़ी देर के लिए राहत प्रदान कर सकते हैं। जब तक स्थिति बहुत गंभीर नहीं होते हैं तब तक घरेलू उपचार मददगार साबित होते हैं। समस्या की शुरूआती दौर में ये आपके बच्चे के लिए लाभकारी होते हैं। लेकिन अगर आपके बच्चे की समस्या गंभीर हो गई है तो आपको घरेलू उपचार के बजाय डॉक्टर से सम्पर्क करने की जरूरत है।

प्राचीन समय में लोग घरेलू उपचारों की मदद लेते थे जब किसी प्रकार की मेडिकल फैसिलिटी नहीं थी और इस वजह से उनके पास कोई दूसरा उपाय नहीं था। लेकिन अब हर चीज की सुविधा उपलब्ध है। तो ऐसे में जब आपके बच्चे को सर्दी-जुकाम, बुखार, आंखों में लालीपन जैसी समस्या हो तब हीं आपको घरेलू उपचारों की मदद लेनी चाहिए। लेकिन जब बच्चे को 104 डिग्री बुखार, त्वचा पर रैशेज, उल्टी, सांस लेने में समस्या होना जैसी समस्या हो तो आपको डॉक्टर से सम्पर्क करने की जरूरत है। [ये भी पढ़ें: सर्दियों में बच्चों को कैसे नहलाएं]

घरेलू उपचार एक हद तक मददगार साबित हो सकते हैं, तो इसलिए आपको पूरी तरह से इसपर भरोसा नहीं करना चाहिए और वो भी तब जब बात आपके बच्चे की आती है। यद्यपि मेडिकल साइंस भी 100% सुरक्षा नहीं प्रदान कर सकता है लेकिन फिर भी आप घरेलू उपचार से ज्यादा भरोसा कर सकते हैं। अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे की स्थिति बेकाबू हो रही है तो ऐसे में घरेलू उपचार की मदद लेकर आप अपना समय बर्बाद कर रहे हैं। यह एक धीमी प्रक्रिया है और पूरी तरह से एक समस्या का इलाज नहीं कर सकता है। इसलिए ऐसे में चिकित्सा की हमेशा मदद लेनी चाहिए। [ये भी पढ़ें: बच्चों के स्वास्थ्य के लिए ड्राई फूट्स का सेवन कैसे बेहतर होता है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "