बच्चों में डिहाइड्रोशन के दौरान दिखते हैं ये संकेत

what are the signs of dehydration in babies

बच्चों के ना बोलने के कारण उनकी परेशानी को समझने में बहुत ही दिक्कत होती है। बच्चे के शरीर में होने वाली समस्याओं के बारे में पता करना मुश्किल हो जाता है। बच्चे के शरीर में पानी की कमी होने पर डिहाईड्रेशन की समस्या होती है। इस समस्या से पीड़ित बच्चों में कुछ खास लक्षण दिखाई देते हैं। [ये भी पढ़ें: अगर शिशु है घमौरी से परेशान तो ये उपाय आएंगे आपके काम]

1- पेशाब कम आना और पीला आना:
जब आपके बच्चे के शरीर में पानी की मात्रा कम होती है तो वह यूरिन भी कम करता है और साथ ही यूरिन का रंग भी गहरा होता है। आप बच्चे के डायपर कम खराब होने से अंदाजा लगा सकती हैं कि आपके बच्चे के शरीर में पानी की कमी है। [ये भी पढ़ें- क्यों रातभर नहीं सो पा रहा आपका शिशु जानें कारण]

2-लंबे समय तक डायरिया या उल्टी:
लंबे समय से डायरिया या उल्टी करना शरीर में पानी की कमी का लक्षण नहीं कम कारण ज्यादा होता है। बच्चों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। जिसकी वजह से वह जल्दी बीमार हो जाते हैं। 3 दिनों तक उल्टी या डायरिया से आपके बच्चे के शरीर में पानी की कमी हो जाती है।

3- धंसी हुई आंखें:
डिहाईड्रेशन के कारण बच्चा थका हुआ सा लगता है और उसकी आंखें धंसी हुई लगती हैं। इसके साथ ही आप बच्चे के सिर में दाग देख सकते हैं।

4-रोते समय आंसू ना आना:
what are the signs of dehydration in babiesबच्चों के रोने के कई कारण होते हैं। जैसे-भूख लगना, नींद ना आना, दर्द या किसी तरह से असहज महसूस करना। आपको बच्चे के रोते समय उसके आंसुओं पर ध्यान देना चाहिए। शरीर में पानी की कमी के कारण बच्चे को रोते समय आंसू नहीं आते हैं।

5- लंबे समय तक स्किनफोल्ड होना:
हाइड्रेटिड त्वचा को पिंच करने पर वह उसी समय सामान्य हो जाती है लेकिन डिहाइड्रेटिड त्वचा को सामान्य होने में समय लगता है। बच्चों की त्वचा के साथ इसका उल्टा होता है। जब उनकी त्वचा डिहाइड्रेटिड होती है तो वह सॉफ्ट हो जाती है। यह त्वचा का लचीलापन कम होने के कारण होता है। यह डिहाइड्रेशन के लक्षण होते हैं।

6-तेज सांस लेना:
तेज सांस लेना शरीर में पानी की कमी का लक्षण से ज्यादा कारण होता है। बच्चे के शरीर से पानी सांस से वाष्प बनकर बाहर निकल जाता है और तेज सांस लेने से वाष्प के रुप में पानी ज्यादा चला जाता है। सांस लेने में परेशानी या हार्ट रेट का कम या ज्यादा होना डिहाईड्रेशन का संकेत हो सकता है।[ये भी पढ़ें: जानिए क्या है बच्चों को गोद में उठाने की सही तकनीक]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "