बच्चे के गुस्से शांत करने के लिए अपनाएं कुछ उपाय

Read in English
what-are-the-positive-ways-to-help-your-children-manage-their-anger-

बच्चों को जब गुस्सा आता है तो वे किसी की नहीं सुनते। छोटे बच्चे ज्यादा समझ नहीं पाते और गुस्सा आने पर वे कहीं भी रोने, चिल्लाने और हाथ फेंकने लगते हैं। ऐसे में माता-पिता को परेशानी और शर्मिंदगी का सामना करना पड़ सकता है। बहुत बार माता-पिता यह समझ नहीं पाते कि इस परीस्थिति में उन्हें क्या करना चाहिए और वे उल्टा बच्चे पर ही गुस्सा हो जाते हैं। बच्चों के गुस्से को शांत करने के लिए समझना जरुरी है कि उन्हें गुस्सा क्यों आ रहा है। बच्चों का गुस्सा आपके गुस्सा करने से नहीं बल्कि प्यार से समझाने पर शांत होता है। आइए जानते हैं कि बच्चों के गुस्से को शांत करने के लिए माता-पिता को क्या टिप्स अपनाने चाहिए। [ये भी पढ़ें: शिशु के बालों की देखभाल कैसे करें]

1.बच्चे की बात सुनें: अक्सर लोग बच्चे को रोता देख खिलौनों या किसी और चीज से उसका मन बहलाने की कोशिश करते हैं लेकिन वे उनसे बात नहीं करते। इसलिए पहले बच्चे से बात करें और उसे पूछे कि वो क्यों गुस्सा है ताकि आपको उसके गुस्से के कारण का पता चल जाए जिसे ठीक करके आप बच्चे को शांत करवा सकें।

2.गुस्सा ना करें: दूसरे लोगों के सामने जब आपके बच्चे रोते-चिल्लाते और गुस्सा करते हैं तो आपको बुरा लग सकता है लेकिन ऐसे समय में आप गुस्सा ना करें। बच्चे समझदार नहीं होते लेकिन आप तो समझदार हैं। ऐसे में अगर आप गुस्सा करते हैं तो हो सकता है कि बच्चे डर की वजह से शांत हो जाए, लेकिन उनके दिमाग में आपकी नकारात्मक छवि बन जाती है। आपका गुस्सा बच्चों को और भी ज्यादा जिद्दी और गुस्से वाला बना सकता है।

3.बच्चों के पास रहें: अगर बच्चा आपको मार रहा है तो उससे थोड़ा दूर हो जाएं और खुद को सुरक्षित रखें। बच्चे को समझाएं कि आप उन्हें खुद को मारने नहीं देगें लेकिन आप उनके पास हैं। वे जब भी चाहें आपको अपने मन की बात बता सकते हैं। ऐसे में बच्चे खुद आपसे बात करने को मजबूर हो जाते हैं। [ये भी पढ़ें: शिशु को थोड़े समय के लिए डाइपर के बिना क्यों रहने देना चाहिए]

4. बच्चे को थोड़ा समय दें: जब बच्चों को अचानक से गुस्सा आता है तो वे किसी को भी सुनने के मूड में नहीं होते। इसलिए उन्हें थोड़ा समय दें। जब उन्हें समझ आ जाता है कि उनके रोने, चिखने, चिल्लाने और हाथ-पैर फेंकने से कुछ नहीं होने वाला तो वे खुद ही शांत होकर आपसे बात करने को तैयार हो जाते हैं।

5. बच्चे से बात करें: शांत होने के बाद उनसे प्यार से बात करें और उन्हें समझाएं। अक्सर प्यार से समझाने पर बच्चे आपकी बात मानने को तैयार हो जाते हैं। अगर वे खिलौना या कोई चीज़ मांग रहें है तो उन्हें लाकर देने का वादा करें लेकिन झूठा वादा ना करें, वर्ना आपको फिर से उनके गुस्से का शिकार होना पड़ सकता है।[ये भी पढ़ें: शिशु के बालों की देखभाल कैसे करें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "