महिलाएं किन अलग तरीकों से शिशु को पिला सकती हैं दूध

what are the different positions of breastfeeding

Photo Credit: thedailynewnation.com

ब्रेस्ट मिल्क बच्चे के लिए एकमात्र प्राकृतिक और पूर्ण पोषण का जरिया होता है। स्तनपान करने वाले बच्चे बोतल से पीने वाले बच्चों की तुलना में अधिक स्वस्थ होते हैं, क्योंकि स्तन के दूध में पोषक तत्वों का सही संतुलन रहता है जो शिशु के मस्तिष्क के विकास और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए महत्वपूर्ण होता है। पहली डिलीवरी के दौरान स्तनपान की समस्याएं विशेष रूप सामान्य है। नई माताएं ब्रेस्टफीडिंग की पोजीशन को लेकर चिंतित और अंजान रहती हैं। अगर ब्रेस्टफिडिंग के दौरान मां और बच्चा आरामदायक नहीं महसूस करता है, तो बच्चे को पर्याप्त मात्रा में दूध नहीं मिल पाता है। तो आइए जानते हैं महिलाएं किन अलग-अलग तरीकों से शिशु को दूध पिला सकती हैं। [ये भी पढ़ें: नवजात शिशु के कपड़े धोते वक्त भी बरतनी चाहिए ये सावधानियां]

what are the different positions of breastfeeding
Photo Credit: cdn1.medicalnewstoday.com
  • क्रैडल फोल्ड पोजिशन ब्रेस्टफिडिंग का सबसे आरामदायक पोजीशन होता है। बच्चे को अपने हाथ पर रखें और उसके मुंह को स्तन की ओर ले जाएं, ताकि दूध अच्छी पर्याप्त मात्रा में बच्चे के मुंह में जा सके। ध्यान रहे कि बच्चे का सिर और गर्दन को आपके हाथ पर ठीक रहें। इस दौरान बिस्तर या कुर्सी पर बैठने कोशिश करें। इसके अलावा ये भी ध्यान रहे कि बच्चे का नाक खुली रहे ताकि उसे सांस लेने में कोई कठिनाई ना महसूस हो।
  • आप क्रॉस क्रैडल में आप अपने बच्चे को अपने हाथों में अच्छा तरह रखें। इस दौरान आपको सीधा होकर बैठना होता हैं ताकि आपके बच्चे का मुंह आपके स्तन तक अच्छी तरह पहुंच सकें और उसे दूध लेने में कोई परेशानी ना हो। इसके अलावा आप ब्रेस्टफिडिंग कराते वक्त तकिए का भी सहारा ले सकती है। [ये भी पढ़ें: शिशु के दूध की बोलत इस्तेमाल करने की आदत को कैसे छुड़ाएं]
  • लेट कर बच्चे को दूध पिलाना सबसे अच्छा पोजीशन माना जाता है, क्योंकि इस दौरान मां अपने बच्चे को आराम से और सहज तरीके से ब्रेस्टफिड करा सकती है। आप सीधे से भी लेट सकती है और बच्चे को अपने पेट पर रख सकती हैं। अपने स्तन के पास बच्चे के मुंह को अच्छी तरह रखें ताकि बच्चे के मुंह में दूध अच्छी तरह जा सके।
  • आप अपने बांहों के नीचे बच्चे इस प्रकार रखें ताकि उसका सिर ठीक से स्तन तक पहुंच सके और बच्चे के मुंह तक निपल्स जा सके। इस पोजिशन का इस्तेमाल सीज़ेरियन सेक्शन या जुड़वा बच्चों वाली मां पालन करती हैं। [ये भी पढ़ें: नवजात शिशु से जुड़ी कुछ सामान्य मगर ध्यान देने वाली समस्याएं]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "