Fever in babies: नवजात शिशु को बुखार से कैसे राहत दिलाएं

Read in English
How To Treat Fever In Babies

Baby Fever: शिशु को बुखार होने पर इसके प्रकार और शरीर के तापमान के बारे में सतर्क रहना चाहिए।

Fever in babies: शुरुआती महीनों में या एक साल के समय तक नवजात शिशु बैक्टीरिया और फंगस के संपर्क में आने के लिए अत्यधिक संभावित होते हैं। इस समय में, उन्हें अत्यधिक देखभाल की आवश्यकता होती है क्योंकि वो पूरी तरह से हमारे ऊपर निर्भर करते हैं। बुखार एक आम समस्या है जिसके कारण बच्चे को काफी परेशानी हो सकती है। आपको अपने शिशु को बुखार होने पर इसके प्रकार और शरीर के तापमान के बारे में सतर्क रहना चाहिए, ताकि शिशु को तुरंत राहत दी जा सके। अगर बच्चा 4-5 महीने से कम आयु में है और हल्के बुखार से पीड़ित है तो डॉक्टर से संपर्क करें। बुखार से नवजात शिशु को राहत दिलाने के लिए आपको कुछ तरीके अपनाने चाहिए चाहिए। [ये भी पढ़ें: शिशु के पेट में दर्द होने के क्या कारण होते हैं]

Fever in babies: नवजात शिशु को होने पर क्या करें

  • कैसे जानें कि बच्चे को बुखार है
  • बुखार के लक्षण
  • बुखार के कारण
  • नवजात शिशु को बुखार से राहत कैसे दिलाएं

कैसे जानें कि बच्चे को बुखार है

symptoms and treatment of fever in babies
fever in babies: यदि शिशु बेवजह रो रहा है तो उसे बुखार हो सकता है।

बच्चे के शरीर के तापमान को मापें यदि वह बेवजह रो रहा है या आपको लग रहा है कि शिशु के शरीर का तापमान सामान्य से अधिक है। कपड़ों की एक परत कम करें और देखें कि क्या शरीर अभी भी गर्म है या यह सिर्फ कपड़ों की गर्मी के कारण है। इस मामले में चिकित्सक से परामर्श लें।

बुखार के लक्षण

Your Baby's Fever: How to Help
Baby’s Fever: यदि तापमान कम ना हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बुखार के प्रति बच्चों की अलग-अलग प्रतिक्रिया हो सकती है। कुछ शिशु बुखार के दौरान निष्क्रिय हो जाते हैं और प्रतिक्रिया नहीं देते हैं जबकि कुछ उग्र हो जाते हैं और बहुत रोने लगते हैं। इसके अलावा, बुखार के दौरान बच्चे में डायरिया, त्वचा पर रैश, जलन, कांपना और चिड़चिड़ा होना आदि लक्षण दिख सकते हैं। अपने बच्चे के व्यवहार के बारे में डॉक्टर को बताएं और किसी भी असामान्य गतिविधि के बारे में सूचित करें।

बुखार के कारण
मौसम में बदलाव या माता को होने वाली बीमारी आम तौर पर बच्चे के स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है। अगर कोई सर्दी या खांसी से संक्रमित है तो सावधानी बरतें। बच्चे के पास ना जाए। शिशु को सही देखभाल के साथ उचित पोषण की आवश्यकता होती है।

नवजात शिशु को बुखार से राहत कैसे दिलाएं

डॉक्टर की सलाह के अनुसार, हल्की दवा शिशु के लिए सहायक हो सकती है। डॉक्टर से सलाह लें कि हल्के बुखार में शिशु को कौन सी दवा दी जा सकती है। यदि तापमान अभी भी कम ना हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। बच्चे को सर्दी और अन्य संक्रमण से सुरक्षित रखें। शरीर के तापमान की जांच करते रहें।

[जरुर पढ़ें: अपने शिशु को बीमार होने से कैसे बचाएं]

शिशु को बुखार होने पर उसके आस-पास के पर्यावरण में उचित स्वच्छता बनाए रखें। साथ ही, बच्चे को नहलाएं क्योंकि इससे तापमान को कम करने में मदद मिलेगी। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "