बच्चे की अंगूठा चूसने की आदत छुड़वाने के आसान उपाय

Read in English
What Are The Best Ways to Wean Children Off Thumb Sucking Habit

छोटे बच्चे अधिक संवेदनशील होते हैं इसलिए उनके स्वास्थ्य का अधिक ख्याल रखना पड़ता है। बच्चों के स्वास्थ्य का ख्याल रखने वाले मां-बाप अक्सर उनकी छोटी-छोटी आदतों से परेशान हो जाते हैं। ऐसा होना जायज भी है क्योंकि बचपन की कुछ बुरी आदतें बच्चों को भविष्य में काफी परेशान करती हैं। बहुत से बच्चों को अंगूठा चूसने की बहुत बुरी आदत होती है। बच्चे अक्सर मुंह में अंगूठा लेकर चुप और शांत हो जाते हैं। कई बार बच्चों की यह आदत लंबे समय तक चलती है और एक परेशानी में बदल जाती है। अंगूठा चूसने वाले बच्चों को दांतों की परेशानियों का सामना तक करना पड़ सकता है। आइए जानते हैं कि बच्चों को अंगूठा चूसने की आदत कैसे छुड़वानी चाहिए। [ये भी पढ़ें: कारण जिनसे आपके शिशु को गैस की समस्या हो सकती है]

1.बच्चों का अंगूठा चूसना हानिकारक क्यों होता है: अंगूठा चूसने से बच्चों के दांतों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। इस आदत के कारण बच्चों के जबड़े के ऊपर की तरफ के मुलायम टिशू बुरी तरह प्रभावित हो जाते हैं। इससे उनके दांत भली-भांति विकसित नहीं हो जाते है।

बच्चों को कैसे छुड़वाएं अंगूठा चूसने की आदत:

बच्चे पर गुस्सा ना करें: हो सकता है कि आप अपने बच्चे को लंबे समय से अंगूठा चूसवाने की आदत छुड़वाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन वह इस आदत को नहीं छोड़ रहा है। ऐसे में उस पर गुस्सा ना हों। गुस्सा करने से बच्चे थोड़े समय के लिए ही ये आदत छोड़ते हैं। गुस्सा करने की बजाय प्यार से समझाएं। [ये भी पढ़ें: बच्चों को बेहतर नींद दिलाने में मददगार खाद्य पदार्थ]

धीरे-धीरे कोशिश करें: बच्चों को अचानक से अंगूठा चूसने की आदत छुड़वाने के लिए अगर आप बाधित करते हैं तो वे बैचेन हो जाते हैं। इसलिए धीरे-धीरे ये आदत छुड़वाएं। बच्चों के सो जाने के बाद उनके मुंह से धीरे से अंगूठा निकाल दें।

बच्चों से उनके तरीके से बात करें: बच्चों से बात करने के लिए उन्हें उनके तरीके से समझाएं। इसके लिए आप खिलौने और कार्टून आदि का प्रयोग करके उन्हें समझाएं कि अंगूठा चूसने की आदत बुरी होती है।

मिर्च और कड़वी चीजों का इस्तेमाल ना करें: बच्चों के अंगूठा चूसने की आदत छुड़वाने के लिए कुछ लोग कड़वी चीजों का इस्तेमाल करते हैं। ऐसा करना बच्चों के लिए हानिकारक होता है। इसलिए ऐसा ना करें। [ये भी पढ़ें: नवजात शिशु की देखभाल से जुड़े मिथक]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "