शिशु को डिहाइड्रेशन से बचाने के लिए उपाय

protect baby from dehydration

पानी शिशु को डिहाइड्रेशन से बचाने का सबसे बेहतर विकल्प है।

गर्मियों के मौसम में शरीर को अतिरिक्त देखभाल की जरुरत होती है। इस समय शिशु की सेहत की देखभाल को लेकर भी आपको ज्यादा सतर्क रहना पड़ता है। पानी की कमी के कारण शिशु को डिहाड्रेशन की समस्या हो सकती है जिससे बीमार पड़ने, उल्टी आने, जी-मिचलाने की समस्याएं हो सकती हैं। बच्चों को डिहाइड्रेशन से बचाने के लिए आपको कुछ उपाय अपना सकते हैं। आइए जानते हैं कि अपने बच्चे को डिहाइड्रेशन बचाने के लिए आप किन टिप्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: हाई-कैलोरी फूड जिनका सेवन बच्चों के लिए लाभकारी होता है]

शिशु में डिहाइड्रेशन के संकेत- डिहाइड्रेशन के कारण शिशु को पेशाब गहरे पीले रंग का आता है या बहुत कम आता है। साथ ही शिशु के रोने पर आंसू ना आना, उल्टी, आंखें धंसना, तेज सांस लेना आदि समस्याएं पैदा हो जाती हैं। यदि ये सारे संकेत आपको नजर आ रहे हैं तो आपको डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।

शिशु के शरीर में पानी की कमी होने से कैसे बचाएं-

  • पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पिलाएं
  • पानी की कमी पूरी करने वाले फल खिलाएं
  • नारियल पानी पिलाएं
  • ORS का घोल पिलाएं

पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ पिलाएं- बच्चों के शरीर में पानी की कमी ना हो इसके लिए पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ जैसे पानी, जूस, दूध आदि बच्चों को पिलाने चाहिए। आप शिशु को सहज महसूस करवाने के लिए उन्हें गर्मी से बचाएं और धूप में लेकर बाहर ना निकलें, गर्मी में शिशु की देखभाल के लिए जरुरी बातें जानने के लिए क्लिक करें।

पानी की कमी पूरी करने वाले फल खिलाएं- शिशु के शरीर में फ्लूइड की कमी दूर करने के लिए शिशु की कमी दूर करने वाले और हाइड्रेट रखने वाले फल और सब्जियों का सेवन करवाना चाहिए। शिशु को खीरा, तरबूज आदि खिलाएं जो डिहाइड्रेशन से बचाते हैं।

नारियल पानी पिलाएं- नारियल पानी में विटामिन ई और एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं साथ ही यह शिशु को हाइड्रेट रखने में मदद करता है। इसके लिए शिशु को नारियल पानी पिलाएं ताकी उसे डिहाइड्रेशन का सामना ना करना पड़े।

ORS का घोल- शिशु को डिहाइड्रेशन से बचाने के लिए उसे ORS का घोल पिलाएं। चीनी और नमक की एक-एक चम्मच को एक कप पानी में मिलाकर ORS का घोल बनाया जाता है जो कि शिशु को डायरिया और डिहाइड्रेशन में मददगार होते हैं। [ये भी पढ़ें: खाद्य पदार्थ जो शिशु को दांत आने पर खिलाने चाहिए]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "