नवजात शिशु से जुड़ी कुछ जानने योग्य बातें

Read in English
Things to know about newborn baby

बच्चे का जन्म एक माता-पिता के लिए बहुत खुशनुमा होता है। लेकिन बच्चे के जन्म के बाद उनका खास ध्यान रखना बहुत आवश्यक होता है क्योंकि बच्चों की त्वचा बहुत नाजुक होती है तो अगर ऐसे में उनका ध्यान नहीं रखा जाएगा तो उनके लिए असहजता का कारण बन सकता है। पहली बार बनी माताओं को बच्चों की देखभाल के बारे में बहुत सी बातें पता नहीं होती है तो वैसे में उन्हें इस बात का डर होता है कि कहीं उनके बच्चे को कोई हानि ना पहुंचें। ऐसी माताएं अपने बच्चों की देखभाल से जुड़ी हर बातों के बारे में जानने के लिए उत्सुक रहती है ताकि उनका बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ रहे। आइए जानते हैं नवजात शिशु से जुड़ी कुछ ऐसी बातें जो आपको जानना जरूरी होता है। [ये भी पढ़ें: बच्चे के आंख मलने के पीछ क्या कारण होते हैं]

स्पॉन्ज बाथ दें:
Things to know about newborn babyजब तक आपके बच्चे का अम्बाइकल कॉर्ड ना निकल जाए तब तक आपको उन्हें स्पॉन्स बाथ देने की जरूरत होती है। अगर नहराते वक्त कॉर्ड गिला हो जाए तो उसे सूखे कपड़े से पोछ दें। अम्बाइकल कॉर्ड के गिरने के वक्त खून निकलना स्वभाविक होता है तो इसलिए आपको डरने की जरूरत नहीं है।

हल्के हाथों से पकड़ें: नवजात शिशु को हल्के हाथों से पकड़ना चाहिए क्योंकि उनकी त्वचा बहुत कोमल होती है। अगर आप हल्के हाथों से नहीं पकड़ेंगे को आपके बच्चे के शरीर पर निशान पड़ सकता है। स्पॉट पल्सेट हो सकता है क्योंकि यह मस्तिष्क को कवर करने वाले रक्त वाहिकाओं से सीधे जुड़ा होता है। [ये भी पढ़ें: जानिए बच्चे के लिए किस पोजीशन में सोना सुरक्षित होता है]

समय पर खाना दें:
Things to know about newborn babyबच्चे को हर 2 से 3 घंटे के अंतराल में खाना देना चाहिए ताकि उसका पेट भरा हो और उसे किसी प्रकार की परेशानी ना हो। नवजात शिशु का पहले सप्ताह में 5 से 8 प्रतिशत तक वजन कम होता है लेकिन दूसरे सप्ताह में वो कवर हो जाता है।

नवजात शिशु बहुत सोते हैं:
Things to know about newborn babyबच्चे हर 1 से 2 घंटे का स्ट्रेच लेकर सोते हैं और ऐसा वो पूरे दिन में 5 से 10 बार करते हैं। बच्चे के सोने का कोई समय निर्धारित नहीं होता है और इस वजह से माताएं जो होती है उन्हें अत्यधिक थकावट महसूस होती है।

बच्चों का रोना: बहुत से कारणों की वजह से बच्चे रोते हैं जैसे- भूख लगने के कारण या फिर डायपर गंदा होना। इसके अलावा बच्चे जब बेड पर होते हैं और उन्हें गोद में आना होता है तो इस वजह से भी वो रोते हैं। बच्चे का रोना हमेशा किसी ना किसी वजह से होता है। [ये भी पढ़ें: शिशु को पानी पिलाने का सही समय क्या है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "