बच्चे को स्मार्ट और बुद्धिमान बनाने के लिए आसान टिप्स

Read in English
simple-ways-to-make-your-baby-smart-and-intelligent-

बच्चों के दिमाग का विकास और उम्र के साथ उनका व्यवहार माता-पिता के द्वारा दी गई सीख और की गई देखभाल पर बहुत निर्भर करता है। छोटे बच्चों को आप समझा नहीं सकते बल्कि उन्हें सिखा सकते हैं। बच्चों को सिखाना आसान नहीं होता। इसके लिए आपको उन्हीं की भाषा का इस्तेमाल करना पड़ता है साथ ही उनकी डाइट हेल्दी बनाने के लिए तरह-तरह विकल्प खोजने पड़ते हैं। बच्चों को स्मार्ट और बुद्धिमान बनाने के लिए माता-पिता को खेल-खेल में उन्हें सिखाना पड़ता है। स्वास्थ्यवर्धक खानपान और अच्छी सीख बच्चों के दिमाग को विकसित करने और उन्हें स्मार्ट बनाने के लिए बहुत जरुरी होती है। आइए जानते हैं कि आप अपने बच्चे को स्मार्ट और बुद्धिमान बनाने के लिए किन टिप्स का सहारा ले सकते हैं। [ये भी पढ़ें: शिशु के बालों की देखभाल कैसे करें]

1. टीवी से दूर रखें: छोटे बच्चे अक्सर टीवी और स्मार्ट फोन को देखकर काफी आकर्षित होते हैं लेकिन इससे उनकी कार्यकुशलता और सीखने की क्षमता कम हो जाती है। टीवी बच्चों के लिए टाइम पास का आसान जरिया होता है और ऐसे में वे कुछ और नया करने और सीखने की कोशिश नहीं करते हैं। ऐसे में बच्चों को स्मार्ट फोन और टीवी से दूर रखें।

2.बच्चों के साथ समय बिताएं: बच्चा जैसे-जैसे बड़ा होता है वैसे-वैसे सीखने की क्षमता बढ़ती जाती है। ऐसे में आप शिशु के साथ बात करना, उसके साथ खेलना, उसे हंसाना शुरु करें जिससे उसके दिमाग में समझने की शक्ति विकसित होती है। [ये भी पढ़ें: शिशु को थोड़े समय के लिए डाइपर के बिना क्यों रहने देना चाहिए]

3.हेल्दी खान-पान: ब्रोकली, पालक, लौकी जैसी सब्जियां फल और नट्स बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक लाभकारी होते हैं लेकिन बच्चों को अक्सर ये स्वादिष्ट नहीं लगते हैं इसलिए उन्हें अलग-अलग तरीकों से स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थों का सेवन करवाने की कोशिश करें। ये खाद्य पदार्थ बच्चों को स्मार्ट और बुद्धिमान बनाने के लिए बहुत जरुरी होते हैं।

4. उन्हें बाहर ले जाएं: बच्चों को पार्क और खेल के मैदान जैसी जगहों पर ले जाना शुरु करें और उन्हें दोस्त बनाना सिखाएं। इससे बच्चे स्मार्ट तो बनते ही है साथ ही उनका कोगनेटिव विकास भी होता है। एक अध्ययन के अनुसार ग्रीन स्पेस यानि की पेड़-पौधों वाली जगह जैसे पार्क, गार्डन आदि में ले जाने पर उनके दिमाग का विकास तेजी से होता है।

5.बच्चों को किताबों और कहानियों से परिचय करवाएं: बच्चे जैसे ही थोड़ा सा समझना शुरु करें आप उन्हें कहानियां सुनाएं इससे वो सेन्टेंस फॉर्मेशन जल्दी करना सीख जाते हैं और जल्दी बातचीत करना शुरु करें। साथ ही बच्चों को चित्रों, पेटिंग्स वाली किताबों से उन्हें सिखाना शुरु करें जिससे बच्चे किताबों को पसंद करना और उनसे चीजें सीखना शुरु कर देते हैं। [ये भी पढ़ें: बच्चों को सोते वक्त कहानियां सुनाने के क्या लाभ होते हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "