संकेत जो बताते हैं कि आपके शिशु को लैक्टोज इंटोलरेंस है

Read in English
Signs Say That Your Baby Is A Lactose Intolerance

कुछ लोगों का शरीर दूध या दूध से बने पदार्थों में मौजूद शुगर को नहीं पचा पाता है। यह शुगर लैक्टोस होता है और इस समस्या को लैक्टोज इंटोलरेंस के नाम से जाना जाता है। लैक्टोज को पचाने के लिए हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में लैक्टेज नामक तत्व स्रावित करने की जरुरत होती है। अगर आपका शरीर भी दूध को नहीं पचाता और फिर भी आप दूध से बनें पदार्थों का सेवन करते हैं तो यह आपके लिए हानिकारक हो सकता है। यह समस्या सिर्फ बड़ों को ही नहीं बल्कि बच्चों को भी हो सकती है। आइए जानते हैं कि बच्चों में लैक्टोज इनटॉलेरेंस के क्या-क्या लक्षण होते हैं। [ये भी पढ़ें: शिशु के बालों की देखभाल कैसे करें]

1.डायरिया: बच्चों को एलर्जी आदि बीमारियां होने का खतरा ज्यादा होता है लेकिन अगर दूध पीने के बाद उन्हें लगातार उल्टी आने और दस्त लगने की समस्या होती है। लैक्टोज इनटॉलेरेंस के कारण बच्चों को हरे रंग का पॉटी आता है।

2.ब्लोटिंग और गैस: नवजात बच्चों को दूध पीने के बाद अक्सर गैस और ब्लोटिंग की समस्या हो जाती है तो उन्हें लैक्टोज इनटॉलेरेंस हो सकता है। कभी-कभी यह बच्चों को ज्यादा दूध पिलाने पर भी गैस और ब्लोटिंग हो जाती है। [ये भी पढ़ें: शिशु को थोड़े समय के लिए डाइपर के बिना क्यों रहने देना चाहिए]

3. जी-मिचलाना: लैक्टोज इनटॉलेरेंस होने पर बच्चे अक्सर दूध को बार-बार थूकते हैं। वे दूध को पचा नहीं पाते इस वजह से उनका जी मिचलाने लगता है। बच्चों के जी-मिचलाने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन दूध पीने के बाद अक्सर उनका जी-मिचलाता है और वे उल्टी करते हैं तो उन्हें लैक्टोज इनटॉलेरेंस हो सकता है।

4.त्वचा संबंधी परेशानियां: लैक्टोज इनटॉलेरेंस के कारण बच्चों के एक्जिमा हो सकता है। इससे सिर्फ एक्जिमा नहीं बल्कि त्वचा संबंधित अन्य समस्याएं भी हो सकती है। कभी-कभी दूध पीने के बाद बच्चों की गर्दन, पीठ और कमर की त्वचा पर भी एलर्जी हो जाती है।

5.वजन नहीं बढ़ पाता: लैक्टोज इनटॉलेरेंस के कारण बच्चों का शरीर दूध से कैल्शियम और प्रोटीन का अवशोषण नहीं कर पाता है जिससे बच्चों का वजन नहीं बढ़ पाता। ऐसे में बच्चे को डॉक्टर को जरुर दिखाएं। [ये भी पढ़ें: बच्चों को सोते वक्त कहानियां सुनाने के क्या लाभ होते हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "