बच्चे के अधिक रोने के पीछे हो सकते हैं ये कारण

Reasons why your baby is crying a lot

आपका बच्चा पूरी तरह आप पर निर्भर होता है। क्योंकि वह बता नहीं सकता है कि उसे कोई परेशानी हैं। इस वजह से यह जान पाना की बच्चा रो क्यों रहा है बहुत ही मुश्किल होता है। खासकर ऐसे युगल जो पहली बार माता-पिता बने हैं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बच्चे कुछ खास वजहों से ही रोते है।इसलिए बच्चों के रोने के पीछे कारण जानना बेहद जरुरी होता है। तो आइए जानते हैं ऐसे कारणों के बारे में जिनके कारण बच्चे अक्सर रोते हैं।

1-भूख लगना:
Reasons why your baby is crying a lotबच्चे की बेसिक जरुरतों में से उसकी भूख का ध्यान रखना जरुरी होता है। जब बच्चे की यह आवश्यकता पूरी नहीं होती है तो बच्चा रोने लगता है। यह परेशानी उन बच्चों को ज्यादा होती है जो खा नहीं पाते हैं। कई बार बच्चे खाना खाने के कुछ देर बाद भी रोने लगते हैं। बच्चों का पेट बहुत छोटा होता है इसलिए वह ज्यादा समय तक भोजन को अपने पेट में नहीं रख पाते हैं। जिसकी वजह से बच्चों को भूख बहुत जल्दी लगती है। [ये भी पढ़ें: गर्मियों में अपने शिशु की देखभाल करने के लिए अपनाएं ये टिप्स]

2-डायपर का गंदा हो जाना:
Reasons why your baby is crying a lotऐसे बहुत से बच्चे होते हैं जो गंदे डायपर को बर्दाश्त नहीं कर सकते है। जिसके कारण वह रोना शुरु कर देते हैं। गीले डायपर से बच्चे की त्वचा पर परेशानी हो सकती है। जिससे वह रोना शुरु कर देते हैं। बच्चे नींद के दौरान भी रो सकते हैं। गीले डायपर बदलने के बाद बच्चे शांत हो जाते हैं।

3-डायपर से होने वाले दाने:
Reasons why your baby is crying a lotगंदे डायपर की वजह से त्वचा पर दाने हो जाते हैं। इस कारण से भी बच्चे रोने लगते हैं। डायपर से निशान या दाने वाली त्वचा पर दर्द होने लगता है। जिसे समय से ठीक ना किया जाए तो फफोले होने का खतरा रहता है। बच्चे को डायपर से होने वाले दानों से बचाने के लिए डायपर बदलते समय बच्चे को क्रीम लगानी चाहिए।

4- दांत आना:
Reasons why your baby is crying a lotअगर आपके बच्चे की उम्र 6-8 महीने है और वह अचानक रोता रहता है तो यह दांतों की वजह से हो सकता है। जब बच्चे के दांत आने वाले होते है तो उसे असहज महसूस होता है और दर्द भी होता है। अपनी एक साफ अंगुली बच्चे के मसूड़ों पर लगाएं अगर वहां टाइट और सूजन महसूस हो या बच्चा हर चीज को मुंह में लेकर उसे काटता है तो यह दांत आने के संकेत हैं।

5-ध्यान चाहिए:
बच्चों को अकेला रहना अच्छा नहीं लगता है वह हमेशा सबके साथ रहकर खुश रहते हैं। बहुत से बच्चों को अपने आस-पास बहुत से लोग होना अच्छा लगता है, ऐसा नहीं होने पर भी बच्चे रोते हैं। ऐसे बच्चे तभी चुप होते हैं जब लोग उनसे आकर बात करने लगते हैं या उनके साथ खेलने लगते हैं।

6- थक जाना:
Reasons why your baby is crying a lotथकान भी बच्चों के रोने के पीछे एक मुख्य वजह हो सकती है। अक्सर बच्चे थक जाने के बाद रोने लगते हैं। क्योंकि उन्हें पता ही नहीं होता है कि क्या करें। थकावट के कारण बच्चे को नींद की जरुरत होती है और अगर वह सो नहीं पाते है तो वह रोने लगते है।

7- पेट में परेशानी होना:
गैस या किसी और परेशानी की वजह से भी बच्चा रो सकता है। कोलिक होने पर बच्चे घंटों तक रोते रहते हैं।अगर आपका बच्चा फीड कराने के तुरंत बाद रोता है तो यह उसके पेट में परेशानी के संकेत होते हैं। [ये भी पढ़ें: अगर शिशु है घमौरी से परेशान तो ये उपाय आएंगे आपके काम]

8- डकार लेने की जरुरत होती है:
जब आपका बच्चा फीड कराने के बाद रोता है तो इसे उसे डकार दिलाने की जरुरत होती है। छोटे बच्चे ब्रेस्ट फीडिंग के समय थोड़ी बहुत हवा अंदर ले जाते हैं जिसकी वजह से वह डकार नहीं ले पाते हैं। इसलिए जरूरी है कि बच्चों को फीडिंग के बाद डकार दिलाएं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "