अगर शिशु है घमौरी से परेशान तो ये उपाय आएंगे आपके काम

how to treat heat rashes in babies

गर्मियों के मौसम में बच्चों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गर्मी आते ही शिशुओं में विशेष रूप से खुजली, लाल निशान और फिर घमौरी जैसी समस्याएं आने लगती हैं। इसलिए इस समय में नवजात शिशु को विशेष देखभाल की जरूरत पड़ती है। अगर शिशु को घमौरी हो गई है तो परेशान होने की जरुरत नहीं है। कुछ खास उपायों को अपनाकर आप अपने बच्चे को घमौरी से राहत दिला सकते हैं। आइए इन उपायों के बारे में जानते हैं। [ये भी पढ़ें: जानिए बच्चे के लिए मां का दूध क्यों है जरुरी]

1-हमेशा अपने बच्चे को सही कपड़े पहनाएं: गर्मियों में अपने बच्चे को ढीले और हल्के रंग के कॉटन के कपड़े पहनाएं। क्योंकि कॉटन के अलावा किसी और कपड़े से आपके बच्चे को त्वचा पर या घमौरी वाली जगह पर जलन या खुजली हो सकती है। जिसके कारण बच्चे की परेशानी बढ़ सकती है इसलिए गर्मियों में अपने बच्चे को कॉटन के कपड़े ही पहनाए।

2-टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल ना करें:
how to treat heat rashes in babiesलोगों की धारणा के विपरीत बच्चों के लिए टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। पाउडर में मौजूद केमिकल से आपके बच्चे को फायदे की बजाय नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह बच्चे की त्वचा को ड्राई(सूखा) कर सकते हैं। बच्चे की त्वचा पर टैल्कम पाउडर लगाने से त्वचा से नमी चली जाती है। जिसके कारण बच्चे को त्वचा पर खुजली होने लगती है। टैल्कम पाउडर के इस्तेमाल की जगह आप घमौरी वाली जगह को दिन में 2-3 बार गुनगुने पानी से धो सकती हैं। इससे बच्चे को ज्यादा आराम मिलेगा। [ये भी पढ़ें: जानें नवजात शिशु को किस तरह और कब दिलाएं डकार]

3- बच्चे को रोज नहलाएं:
how to treat heat rashes in babiesगर्मियों में घर के अंदर या बाहर खेलते समय बच्चे को पसीना आता है। जो की आसानी से बच्चे की संवेदनशील त्वचा से हटता नहीं है। बच्चे की त्वचा पर धूल-मिट्टी और पसीना होने से घमौरी हो जाती है, इसलिए गर्मियों में दिन में दो बार नहाना जरुरी होता है। अगर आप बच्चे को दिन में दो बार नहलाना नहीं चाहती हैं तो बच्चे की त्वचा को ठंडे स्पंज से साफ कर सकती हैं। ध्यान रहे उससे आपके बच्चे की त्वचा अच्छी तरह साफ हो जाए और उस पर धूल या पसीना ना रहे।

4-परफ्यूम वाले साबुन या लोशन का इस्तेमाल ना करें: हमेशा ध्यान रखें जिन प्रोडक्ट में ज्यादा खुशबू और कलर होते हैं उनमें ज्यादा मात्रा में केमिकल होते हैं। जो बच्चों की त्वचा के लिए बिल्कुल ठीक नहीं होते हैं। अगर आप इस तरह के प्रोडक्ट बच्चे की घमौरी के लिए इस्तेमाल करती हैं तो इसके फायदे की बजाय नुकसान हो सकते हैं। इन प्रोडक्ट की बजाय आप बच्चों के लिए डॉक्टर से पूछकर सनस्क्रीन का इस्तेमाल कर सकती हैं। जो घमौरी को ठीक करने में मदद करे।

5- अपने बच्चे के डॉक्टर से मदद लें: अगर आपको लगे की यह चक्कते या घमौरी बच्चे के पूरे शरीर पर फैल रहे हैं और बच्चे को इससे ज्यादा परेशानी हो रही है, तो आप इसके लिए डॉक्टर की सलाह ले सकती हैं। एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि बच्चे के शरीर में पानी की कमी ना हो। साथ ही उसे ऐसा कोई भी भोजन ना दें जिससे उसके शरीर का तापमान बढ़े। इन सबसे बच्चे के निशान और बदतर हो सकते हैं। [ये भी पढ़ें: जानिए क्या है बच्चों को गोद में उठाने की सही तकनीक]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "