Baby care: अपने शिशु के साथ बेहतर रिश्ता कैसे बनाएं

Read in English
Baby Care tips you must know

Baby Care: बच्चों के साथ बेहतर संबंध आपकी परवरिश पर निर्भर करता है

क्या आप जानते हैं कि शिशु की परवरिश का सही तरीका क्या होता है? बच्चों के शारीरिक विकास के साथ-साथ आपको उनका भावनात्मक विकास करना भी जरुरी होता है। शिशु के साथ आपको अपना भावनात्मक और शारीरिक जुड़ाव बनाकर रखना चाहिए। नवजात शिशु अधिकतर समय अपने माता के साथ गुजारते हैं। लेकिन ऐसे में शिशु का पिता के साथ बेहतर संबंध नहीं बन पाता है। नए माता-पिता कुछ गलतियां करते हैं जिससे शिशु और पिता के बीच का संबंध उतना बेहतर नहीं बन पाता जितना शिशु और माता के बीच का संबंध होता है। हर माता-पिता को शिशु की सही परवरिश के साथ-साथ उससे बेहतर रिश्ता बनाने के लिए कुछ टिप्स अपनाने चाहिए।[ये भी पढ़ें: जानिए बच्चे के लिए किस पोजीशन में सोना सुरक्षित होता है]

शिशु के साथ बेहतर रिश्ता कैसे बनाएं

  • स्किन-टू-स्किन कनेक्शन जरुरी होता है
  • बच्चों से बात करें
  • रोजाना की जरुरत का ख्याल रखें
  •  शिशु के साथ खेलें

1.स्किन-टू-स्किन कनेक्शन जरुरी होता है-

Cuddling your baby help you to build a bond easily.
baby care:शिशु को गले लगाने से प्यार बढ़ता है

शिशु को छूने से वह सुरक्षित महसूस करने लगता हैं। आपका नवजात शिशु जन्म से ही स्पर्श की पहचान करना शुरु कर देता है। इसलिए माता-पिता को बच्चों से स्किन-टू-स्किन कनेक्शन बनाना चाहिए। स्किन-टू-स्किन कनेक्शन बनाने के लिए बच्चे को गले लगाना, गोद में सुलाना चाहिए। [ये भी पढ़ें: Baby Sleep: नवजात शिशु का अधिक सोना क्यों जरुरी है]

2.बच्चों से बात करें- बच्चों से बात करें, उन्हें कविता सुनाएं ऐसा करने पर वे जल्द ही चीजें सीखने लगते हैं। अपने शिशु से बाते करें ताकि वह भी जल्द ही आपकी बातों के जवाब में हाथ-पैर हिलाना सीख जाता है।

3.रोजाना की जरुरत का ख्याल रखें- खाने से लेकर सोने तक शिशु की जरुरतों का ख्याल रखें। बार-बार आपका चेहरा देखकर शिशु भी आपसे परिचित हो जाता है और आपकी गोद में सुरक्षित महसूस करता है।

4. शिशु के साथ खेलें-

If you want to make your baby feel happy with you, play with them.
Baby care: बच्चों के साथ खेलने से प्यार बढ़ता है

रोजाना के काम में व्यस्त होने के बावजूद शिशु के साथ खेलने का समय तो आपको निकालना चाहिए। इससे आपका शिशु आपके साथ हंसना-खेलना सीखता है और आपका भी रोजाना का तनाव कम हो जाता है।[ये भी पढ़ें: जानिए शिशु का माता-पिता के साथ सोना कैसे होता है फायदेमंद]

इस प्रकार शिशु के साथ प्यार भरे संबंध बना सकते हैं। इंग्लिश में आर्टिकल पढ़ने के लिए क्लिक करें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "