बच्चों में कैल्शियम की कमी के लक्षणों को कैसे कम करें

causes, symptoms and treatments of calcium deficiency in babies

बच्चे को फीड कराते समय आपके पास ज्यादा विकल्प नहीं होते हैं तो इसलिए बच्चे को खिलाते समय ध्यान रखना पड़ता है कि उनके भोजन में सही मात्रा में पोषक तत्व हों। उन्हीं पोषक तत्वों में से एक कैल्शियम है जिसका सही मात्रा में सेवन ना करने से इसकी कमी हो जाती है। बच्चे और बड़ों दोनों के लिए कैल्शियम फायदेमंद होता है। यह हृदय, मांसपेशियों के स्वस्थ काम और तंत्रिका तंत्र के लिए महत्वपूर्ण होता है। कैल्शियम हड्डियों को स्वस्थ रखने में मदद करता है। बच्चे के 1 साल तक वृद्धि होने से उनका बॉडी मास और वजन बढ़ता है। बचपन में ही सही मात्रा में कैल्शियम का सेवन करने से बड़े होकर हड्डियों से संबंधी समस्या नहीं होती है। तो आइए आपको बच्चों में कैल्शियम की कमी होने के कारण और लक्षणों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: पिपरमिंट तेल है बच्चों के लिए फायदेमंद, जानें कैसे]

कैल्शियम की कमी के कारण:

  • जन्म के दौरान ऑक्सीजन की कमी होना।
  • अगर मां को डायबिटीज है तो बच्चे में कैल्शियम की की हो सकती है।
  • अगर बच्चे को गाय का दूध दिया जाता है जिसमें फॉस्फोरस उच्च मात्रा में होता है उससे हाइपोकैल्सीमिया की समस्या हो सकती है।
  • विटामिन डी की कमी से कैल्शियम का लेवल कम हो जाता है।
  • अगर मां में विटामिन डी की कमी या कैल्शियम का लेवल कम है तो बच्चे में कैल्शियम की कमी हो सकती है। [ये भी पढ़ें: बच्चे के विकास के लिए लाभदायक हैं ये गतिविधियां]

बच्चे में कैल्शियम की कमी होने के लक्षण:

  • मांसपेशियों में खिंचाव।
  • हृदय रेट कम होना।
  • ब्लड प्रेशर कम होना।
  • दिमाग में ऑक्सीजन की सप्लाई कम होना।
  • आंखें झपकाना और होठ हिलाना।

कैल्शियम की कमी का इलाज:

  • खाने में कैल्शियम शामिल करने के साथ और भी कई तरीकों से कैल्शियम की कमी का इलाज किया जा सकता है।
  • बच्चे को सूरज की रोशनी में ले जाएं ताकि बच्चे के शरीर में विटामिन डी का लेवल बढ़ सके। विटामिन डी के अवशोषण से कैल्शियम की मात्रा बढ़ जाती है।
  • कैल्शियम की कमी पूरी करने का सबसे बेहतर उपाय ब्रेस्टफीडिंग होता है।
  • बच्चे को गाय का दूध या फार्मूला मिल्क के सेवन की बजाय मां के दूध का सेवन कराएं। [ये भी पढ़ें: बच्चे के जन्म के बाद जरूर करवाएं ये परीक्षण और टीकाकरण]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "