एंडोमेट्रियॉसिस के साथ कैसे करें गर्भधारण

Read in English
getting pregnant with endometriosis is it possible

Photo Credit: babyinfo.com.au

एंडोमेट्रियॉसिस महिलाओं में होने वाली एक पीड़ादायक समस्या है, जो महिलाओं में होने वाले बांझपन का एक कारण बनता है। मासिक धर्म के दौरान होने वाले रक्त स्राव के समय उसमें जो टिशु बाहर आते है यदि वही टिशु बाहर न निकल कर गर्भाशय में जाने लगते हैं तब इस तरह की परिस्थिति उत्पन्न होने लगती है। इन टिशु के कारण अंदरुनी अंग जो गर्भाशय में मौजूद होते है आपस में जुड़ने लगते हैं। ऐसी समस्या होने पर पेट के निचले हिस्से में बहुत तेज दर्द होने लगता है। ऐसे में गर्भधारण करना थोड़ा कठिन होता है। लेकिन सही समय पर सही उपचार के जरिए एंडोमेट्रियॉसिस के दौरान भी गर्भधारण किया जा सकता है।  [ये भी पढ़ें: आपके गर्भधारण की क्षमता को प्रभावित करता है मोटापा]

एंडोमेट्रियॉसिस, गर्भ को कैसे प्रभावित करता है: एंडोमेट्रियॉसिस के कारण महिलाओं में बांझपन की समस्या देखने को मिलती है जो गर्भधारण न होने के पीछे एक अहम कारण हैं। महिलाओं में पाए जाने वाले शुक्राणु अंडाशय से पहले फैलोपियन ट्यूब में चले जाते हैं और गर्भधारण करने के लिए जरुरी है कि यह शुक्राणु अंडाशय की परतों से जा मिले। यदि एक महिला को फैलोपियन ट्यूब की परतों में एंडोमेट्रियोसिस होता है, तो ऊतक शुक्राणुओं को गर्भाशय में जाने से बचाता है जिसके कारण बांझपन की परिस्थिति पैदा होती है। यहां तक कि एंडोमेट्रियोसिस के कारण महिला और पुरुष के शुक्राणु दोनों क्षतिग्रस्त हो जाने की संभावना होती है। इसके लिए डॉक्टर से सलाह जरुर करना चाहिए, एक बार इस समस्या को जानने के बाद इसका उपचार बिलकुल संभव है।

एंडोमेट्रियॉसिस से कैसे गर्भधारण की संभवनाओं को बढ़ाया जा सकता है:
Getting Pregnant with Endometriosis: Is It Possibleइस तरह की समस्या में निकलने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है डॉक्टर की सलाह साथ ही आज काफी तरह की दवाइयां पायी जाती है जिनके सेवन से गर्भधारण में सहायक हार्मोन्स को बढ़ाया जा सकता है। इन दवाओं के साथ-साथ यह जरुरी है कि एक सही दिनचर्या को अपनाया जाये। इससे आपका स्वास्थ तो सुधरेगा ही साथ में बांझपन की समस्या को कम होगी। इसके अलावा भी कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है।

  • अपने वजन को न बढ़ने दें।
  • संतुलित आहार से भरपूर भोजन का सेवन करें जिसमें हरी सब्जियां, फल, व्होल ग्रेन, और कम प्रोटीन वाला भोजन लें।
  • इसके साथ-साथ जरुरी है अपनी बॉडी को एकदम फिट रखा जाए इसके लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करें, योग करें और अपने मानसिक स्वास्थ्य के लिए मेडिटेशन भी करें।  [ये भी पढ़ें: गर्भधारण से पहले रखें इन चीजों का रखें खास ख्याल]

एंडोमेट्रियॉसिस के समय गर्भधारण से पूर्व विशेषज्ञ की सलाह जरुर लें:
Getting Pregnant with Endometriosis: Is It Possibleइसी तरह की परिस्थिति में सबसे पहले किसी डॉक्टर से सलाह जरुर लें। ऐसा इसलिए कि यदि आप एंडोमेट्रियॉसिस के उपचार के बारें में सोच रही हैं तो यह भी हो सकता है कि आपको उपचार के लिए सर्जरी का सहारा लेना पड़े। सर्जरी इस तरह की समस्या को और बढ़ने से रोकता है। जिससे गर्भधारण होने की संभवनाएं बढ़ जाती है। इस तरह के उपचार के बाद कई यदि आप सम्बन्ध स्थापित करतें है और फिर भी गर्भधारण नहीं हो पाता है तो इसके लिए फिर से डॉक्टर को इस बारे में बताना जरुरी है। वह इसकी जांच फिर से करेंगे, इस तरह की समस्या से निकलने के लिए जरुरी है कि आप खासतौर पर किसी इनफर्टिलिटी डॉक्टर को ही दिखायें। [ये भी पढ़ें: गर्भधारण से जुड़ी समस्या का करें इस तरह से समाधान]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "