सूजन से लड़ने के लिए उपयोगी है ये सुपरफूड्स

super-foods-to-help-you-fight-inflammation

इन्फ्लेमेशन यानि सूजन एक संकेत है जो बताता है की हमारा शरीर किसी इंफेक्शन से लड़ रहा है। जब शरीर के किसी हिस्से की कोशिकाएं किसी बाहरी चोट लगने से या आंतरिक आघात से क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो वहां इन्फ्लेमेशन हो जाता है। इस हिस्से के उपचार के लिए व्हाइट ब्लड सेल्स(सफेद रक्त कणिकाएं) उपयोगी होती है, जो की शरीर के उस हिस्से का खुद उपचार करती है। लेकिन अगर खून में व्हाइट ब्लड सेल्स की कमी हो तो उस अंग का उपचार नहीं हो पाता और इससे शरीर में सूजन और दर्द जैसी समस्याएं पैदा हो जाती है। इसलिए आइए जानते हैं ऐसे एंटी-इंफ्लेमेट्री खाद्य पदार्थों के बारे में जिनके सेवन से शरीर मे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।[ ये भी पढ़ें: खुश रहने में मदद करते हैं ये डोपामाइन सुपरफूड]

1. कच्चा मशरुम: कच्चे मशरुम में पर्याप्त मात्रा में एंटी-इंफ्लेमेंट्री गुण होते है, साथ ही ये नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को शरीर में कम करता है। इसलिए कच्चा मशरुम शरीर के लिए सेहतमंद होता है, हालांकि बहुत अधिक पकाने पर इसके ये गुण समाप्त हो जाते हैं।

2. ओमेगा फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थों में: शरीर के लिए ओमेगा फैटी एसिड के लाभ के बारे में आपने सुना होगा। शरीर में ओमेगा-3 फैटी एसिड और ओमेगा-6 फैटी एसिड शारीरिक स्वास्थ्य के लिए जरुरी होता है। ये शरीर की हृदयघात जैसी खतरनाक बीमारियों से रक्षा करता है। इसलिए वे पदार्थ जिनमें ओमेगा फैटी एसिड पर्याप्त मात्रा में होता है वे एंटी- इंफ्लेमेट्री गुणों से भरपूर और शरीर के लिए उपयोगी होते हैं। इनमें केल, पुदीना, टूना मछली, पालक आदि होते हैं।

3. बेरीज: बेरीज विटामिन्स से भरपूर होती है इसलिए इनमें इंफ्लेमेशन से लड़ने के गुण होते हैं, साथ ही बेरीज में पॉलीफेनोल और एन्थोकायनिन आदि एंटी-ऑक्सीडेंटस भी होते हैं। जिससे इंफ्लेमेशन को कम करने में मदद मिलती है।[ ये भी पढ़ें: अखरोट खाने से होते हैं ये स्वास्थ्य लाभ]

4. चाय: किसी भी एनर्जी ड्रिंक और कॉफी की बजाय चाय सेहत के लिए अधिक फायदेमंद होती है। चाय में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जिससे ये इंफ्लेमेशन कम करने में मदद करता है। साथ ही मेटाबोलिज्म को बढ़ा कर इंफ्लेमेशन से लड़ने में भी मदद करती है।

5.लहसुन: लहसुन दिल की बीमारियों से लड़ने में काफी मददगार होता है। अधिकांश हृदय और संवहनी स्थितियों के विकार शरीर के रक्त वाहिकाओं की पुरानी सूजन या अवरुद्ध होने से उत्पन्न होती सकती है।लहसुन में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं, इसमें पर्याप्त मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट भी होते है, जो दिल की बीमारियों से लड़ने में मददगार होता है और धमनियों की सूजन को कम करता है।[ ये भी पढ़ें: मसल्स बनाने के लिए करें इन सुपरफूड का सेवन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "