Cumin Seeds: स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के लिए जीरे का उपयोग कैसे करें

Read in English
cumin for health related problems

Cumin Seeds: जीरे का बीज स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को कम करता है

Cumin Seeds: जीरे का बीज(जीरा) मसाले के लिए मशहूर होता है और भारतीय व्यंजनों में बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है। भोजन के स्वाद को बढ़ाने के अलावा, जीरा का बीज बहुत सारे घरेलू उपचारों में भी उपयोग किया जाता है और कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। जीरे के बीज आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, और विटामिन बी 1 का समृद्ध स्रोत होता है। बीज में कॉपर, जिन्क और पोटेशियम जैसे मिनरल्स भी होते हैं। रोजाना एक चम्मच जीरा का सेवन शरीर की पोषक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। जीरे का बीज कई स्वास्थ्य संबंधी समस्या को दूर करने के लिए भी फायदेमंद होता है। जीरे का बीज का लाभ उठाने के लिए, घरेलू उपचार में इसका उपयोग करने का सही तरीका जानना बहुत महत्वपूर्ण होता है। [ये भी पढ़ें: पुराने समय में इस्तेमाल किए जाने वाले कारगर घरेलू उपाय]

जीरे के बीच(Cumin seeds) का इस्तेमाल कैसे करें:

  • पाचन बेहतर करता है
  • कब्ज की समस्या दूर करता है
  • अस्थमा और सर्दी-जुकाम से बचाता है
  • इन्सोमनिया की समस्या को दूर करता है

पाचन बेहतर करता है:
पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए, जीरे का बीज सबसे अच्छा घरेलू उपचार होता है। बीज में थाइमोल कम्पाउंड होता है, जो पाचन तंत्र में सैलिवरी ग्लैंड को उत्तेजित करता है। पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए, 1 कप पानी लें और उसमें 1 चम्मच जीरा मिलाएं। फिर मिश्रण को उबाल लें। बीज को फ़िल्टर कर लें और एक दिन में तीन बार उस पानी का सेवन करें।

कब्ज की समस्या दूर करता है:

cumin for health related problems
Cumin Seeds: जीरे का बीज कब्ज की समस्या को दूर करता है

जीरे के बीज कब्ज की समस्या को कम करता है। बीज में फाइबर होता है, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट की गतिविधि को बढ़ावा देता है। कब्ज की समस्या को कम करने के लिए जीरे के बीज का उपयोग करने के लिए, 1 बड़ा चम्मच भुना जीरा ले और उन्हें पीस लें। फिर पाउडर को पानी और शहद के साथ मिलाएं और इसे नियमित रूप से खाली पेट सेवन करें। [ये भी पढ़ें: शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ाने के घरेलू उपाय]

अस्थमा और सर्दी-खांसी से बचाता है:
घर पर सर्दी-खांसी का इलाज करने के लिए जीरे के बीज का सेवन सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। एंटी-बैक्टीरिया और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण की उपस्थिति होने के कारण बीज अस्थमा और सर्दी-जुकाम की समस्या को प्रभावी ढंग से कम करता है। अस्थमा और सर्दी-जुकाम के लक्षणों को कम करने के लिए, 1 गिलास में एक चम्मच जीरा मिलाएं। फिर मिश्रण को उबला लें और उसमें अदरक डालें। इस मिश्रण को फ़िल्टर कर लें और दिन में दो बार इस पानी का उपभोग करें।

इन्सोमनिया की समस्या को दूर करता है:

cumin for health related problems
Cumin Seeds: नींद को बेहतर करने में मदद करता है

जीरा का बीज आपको इन्सोमनिया की समस्या को कम करने में मदद करता है। बीज में मेलाटोनिन नामक एक यौगिक होता है, जो नींद को प्रेरित करने वाले केमिकल के उत्पादन में वृद्धि के लिए फायदेमंद होता है। इन्सोमनिया के लक्षणों को कम करने के लिए, जीरा पाउडर के साथ मैश किया हुआ केले का पेस्ट मिलाएं। नींद से पहले इस पेस्ट का उपभोग करें, यह आपको अच्छी नींद लेने में मदद करेगा। [ये भी पढ़ें: आँखों की देखभाल करने के लिए आयुर्वेदिक टिप्स]

जीरे के बीज के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होता है।

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "