इन घरेलू उपचार की मदद से घर बैठे पैरों की कमजोरी दूर करें

how to strengthen your weak legs by home remedies

photo credit: physio-siemer.de

आजकल पैरों के दर्द या कमजोरी से बच्चे या वृद्ध ही नहीं, बल्कि नौजवान लोग भी काफी परेशान रहते हैं। कमजोरी की वजह से पैरों में सूजन या शारीरिक संतुलन भी बिगड़ जाता है। इस समस्या का कारण रक्त संचार का अच्छा ना होना, नसों का क्षतिग्रस्त होना, ज्यादा काम करना या अर्थराइटिस जैसी वजहें हो सकती हैं। पैरों की कमजोरी को नजरंदाज करना काफी नुकसानदायक साबित हो सकता है, जिसके लिए आपको बाद में काफी दवाइयों का सहारा लेना भी पड़ सकता है। लेकिन समय रहते कुछ घरेलू उपचार की मदद से आप अपने पैरों की कमजोरी को दूर कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: हील पहनने के कारण पैरों की स्थिति है खराब तो कैसे सुधारें]

1.नियमित सैर करना:
how to strengthen your weak legs by home remediesसैर करना हमारे पैरों की मांसपेशियों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इससे आपके पैरों की मसल्स मजबूत होती हैं और रक्त संचार भी सुधरता है। हफ्ते में 5 दिन 30 मिनट के लिए सैर जरुर करें, सैर करने के साथ-साथ थोड़ी बहुत रनिंग और स्विमिंग करना भी एक बेहतर विकल्प है।

2.मसाज: नियमित मसाज करने से आपके पैरों का रक्त संचार दुरुस्त होता है, जिससे कमजोर मांसपेशियों तक भी पोषण पहुंचता है। इसके लिए नारियल या सरसों के गर्म तेल से हल्के हाथों से 10-15 मिनट मसाज करें। इससे आपके पैर के दर्द में आराम मिलेगा, साथ ही सूजन जैसी समस्या भी नहीं रहेगी। [ये भी पढ़ें: कमर दर्द से निजात पाने के लिए अपनाएं ये 60 सेकेंड ट्रिक]

3.धूप लेना: धूप से हमें विटामिन डी मिलता है। यह हमारी मसल्स तक कैल्शियम और फॉस्फोरस को पहुंचाने के लिए जिम्मेदार होता है। इसलिए रोजाना 10-15 मिनट अपने पैरों को धूप के संपर्क में जरुर रखें। साथ ही विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों का प्रयोग भी करें।

4.सेब का सिरका: सेब का सिरका कमजोर पैरों के लिए लाभदायक होता है। इसमें पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो आपकी मसल्स को मजबूत बनाते हैं। एक चम्मच सेब का सिरका एक ग्लास गर्म पानी में डालकर पीएं और इसके साथ शहद या नींबू का रस भी मिला सकते हैं।

5.पोषक आहार: कमजोर पैरों की सबसे बड़ी वजह गलत आहार का सेवन है। पोषण ना मिलने से शरीर की मसल्स अपनी ताकत खोने लगती हैं, जिससे कमजोरी, दर्द या सूजन जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती हैं। इसलिए अपने आहार में अंडे, दही, सोया फूड्स और ड्राईफ्रूट्स जैसे प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें। [ये भी पढ़ें: रेस्टलेस लेग सिंड्रोम से निजात पाने के लिए घरेलू उपचार]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "