होली 2018: घर पर कैसे रंग बनाएं

Read in English
how to prepare homemade colours this holi

होली रंगों का त्यौहार है। जिसे मनाने के लिए रंगों की जरुरत तो होती ही है। बाजार में मिलने वाले रंग आपकी त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं। आर्टिफिशियल कलर में केमिकल मिले होते हैं जिसकी वजह से जलन, एलर्जी और शुष्क त्वचा की समस्या होने लगती है। यह रंग बहुत सस्ते होते हैं इसलिए लोग इन्हें खरीद लेते हैं। त्वचा को केमिकल से बचाने के लिए आप घर पर भी रंग बना सकते हैं। घर पर बने रंगों में केमिकल नहीं होते हैं और इनसे आपकी त्वचा को कोई परेशानी नहीं होती है। कुछ आसान तरीकों की मदद से आप घर पर ही रंग बना सकते हैं। रंग बनाने के लिए आपको कुछ खास चीजें लेने की जरुरत नहीं है। किचन में रखी सामग्री आपकी रंग बनाने में मदद कर सकती है। [ये भी पढ़ें: होली 2018: रंग खेलने के बाद त्वचा की देखभाल कैसे करें]

पीला गुलाल: पीला गुलाल बनाने के लिए आपको ज्यादा सामान की जरुरत नहीं होती है बस हल्दी और बेसन की मदद से इसे बनाया जा सकता है। इसे बनाने के लिए जितनी मात्रा में हल्दी लेंगे उससे दोगुना बेसन ले लें। बेसन के साथ मुल्तानी मिट्टी भी मिला सकते हैं। इसके साथ ही गेंदे के फूल की पत्तियों को सुखाकर गुलाल में मिला लें।

हर्बल वॉटर कलर: जिन लोगों को पानी से होली खेलना पसंद है उन्हें भी बाजार से केमिकल वाले रंग लेने की जरुरत नहीं है। इसके लिए 100 ग्राम टेसू के फूल को पानी की बाल्टी में भिगोकर रातभर के लिए रख दें। इससे पानी में केसरी रंग आ जाता है। बच्चे इस पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: होली पर रंगों के प्रभाव से बालों को कैसे बचाएं]

हरा गुलाल: हरे रंग का गुलाल बनाने के लिए मेंहदी का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन उस मेंहदी में आंवला नहीं मिला होना चाहिए। मेंहदी में समान मात्रा में आटा मिला लें। यह रंग आसानी से त्वचा से चला जाता है। आप इसके साथ ही गुलमोहर की पत्तियों को सुखाकर भी मिला सकते हैं। अगर आपको पानी वाला कलर चाहिए तो आप इसमें पालक की पत्तियों को पीसकर मिला सकते हैं।

लाल गुलाल: लाल गुलाल बनाने के लिए लाल चंदन के पाउडर में गेंहू का आटा मिला लें। इसमें केमिकल नहीं होते हैं। अगर आपको पानी से होली खेलनी है तो इसके लिए चुकंदर को पानी में उबालकर उस पानी को ठंडा करके खेल सकते हैं।

नीला रंग: इसे बनाने के लिए नीली गुलमोहर के फूल को ग्राइंड कर लें। आप इसमें नीले गुड़हल के फूल को भी पीसकर मिला सकते हैं। [ये भी पढ़ें: होली 2018: त्वचा से रंग को आसानी से कैसे निकालें]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "