दाद की समस्या से हैं परेशान तो आजमाएं ये असरदार घरेलू उपाय

how to get rid of ringworm by simple home remedies

दाद(त्वचा रोग) एक फंगल इंफेक्शन है जो त्वचा, नाखून और सिर की त्वचा को प्रभावित करता है। यह एक बीमारी है जो आपके शरीर के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित कर सकता है। दाद का मेडिकल साइंस की भाषा में टिनिया के नाम से जाना जाता है। यह समस्या विशेष रूप से बच्चों को होता है। इस संक्रमण के कारण त्वचा पर गोल आकार में स्केली पैच बन जाते हैं। इस अवस्था में त्वचा का लाल हो जाना, खुजली होना और सूजन होने की समस्या भी हो सकती है। लेकिन कुछ ऐसे घरेलू उपचार होते हैं जिनकी मदद से आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं। [ये भी पढ़ें: पित्ती की समस्या से पाना चाहते हैं निजात तो आजमाएं ये घरेलू उपचार]

1. लहसुन:
लहसुन में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो दाद की समस्या के लिए बहुत प्रभावी होते हैं। यह उन बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करता है जिनके कारण दाद की समस्या उत्पन्न होती है। लहसुन के दो टुकड़ें लें और उसे दाद पर रब करें। इस प्रक्रिया को तब तक दोहराएं जब तक आपको कोई सुधार नजर ना आए।

2. नीम: नीम में एंटीसेप्टिक और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो दाद, खुजली और विभिन्न त्वचा संक्रमणों के इलाज के लिए फायदेमंद होता है। नीम के तेल को एलोवेरा जेल के साथ मिलाकर दाद पर लगाएं। इस प्रक्रिया को रोजाना करें। कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा। [ये भी पढ़ें: स्ट्रेच मार्क्स को कम करने के कुछ आसान घरेलू उपचार]

3. सेब का सिरका:
how to get rid of ringworm by simple home remediesसेब के सिरके में एंटीमाइक्रोबियल और एस्ट्रिंजेंट गुण होते हैं जो त्वचा को कई प्रकार के इंफेक्शन से बचाने में मदद करता है जिससे दाद या त्वचा संबंधी और समस्याएं उत्पन्न नहीं होती है। रूई पर सेब के सिरके की कुछ बूंद लें और उसे प्रभावित हिस्सों पर लगाएं।

4. आयोडिन: आयोडिन में एंटीफंगल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो दाद की समस्या को खत्म करने में काफी असरकारक होते हैं। यह बैक्टीरिया के कारण होने वाले इंफेक्शन को दूर करता है। आयोडीन सोल्युशन में रूई को डुबाएं और उसे प्रभावित हिस्से पर लगाएं। ध्यान रहें कि इसका इस्तेमाल दिन में तीन बार से ज्यादा ना करें।

5. हल्दी: हल्दी में एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक और एंटीफंगल गुण होते हैं जो दाद की समस्या के साथ-साथ कई अन्य त्वचा संबंधी समस्याओं में भी फायदेमंद होता है। यह दाद की समस्या के दौरान हो रही परेशानी से राहत दिलाने में मदद करता है। हल्दी हर प्रकार के फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन से त्वचा को बचाता है। हल्दी के रस को दिन में तीन बार प्रभावित हिस्से पर लगाने से जल्द आराम मिलता है।

6. पपीता: कच्चे पपीते में एंटीफंगल और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो त्वचा पर जमे बैक्टीरिया और फंगस को खत्म करने में मदद करता है जिससे दाद की समस्या उत्पन्न नहीं होती है और त्वचा को अन्य संक्रमण से भी बचाता है। कच्चे पपीते को प्रभावित हिस्से पर 15 मिनट तक लगाकर छोड़ दें। फिर उसे ठंडे पानी से अच्छी तरह धो लें। इस उपचार को कम से कम दिन में 2 बार जरूर करें। कुछ ही दिनों में आपको दाद की समस्या से राहत मिलेगी। [ये भी पढ़ें: पैरों से आने वाली बदबू को दूर करने के घरेलू उपाय]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "