फूड पॉइजनिंग को दूर करने के लिए जरूरी घरेलू उपचार

Read in English

फूड पॉइजनिंग की समस्या हर इंसान को कभी ना कभी होती है। खाने में बैक्टीरिया, वायरस और अन्य विषाक्त पदार्थ होने की वजह से फूड पॉइजनिंग की समस्या हो जाती है। मिचली, उल्टी, सिर दर्द, पेट दर्द या डायरिया इसके आम लक्षण होते हैं। फूड पॉइजनिंग की समस्या को अनदेखा करना खतरनाक साबित हो सकता है। फूड पॉइजनिंग के दौरान आम रूप से ज्यादा अपने शरीर की पानी को खो देते हैं। इसलिए फूड पॉइजनिंग के दौरान ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की कोशिश करें। पानी आपके शरीर के सारे विषाक्त पदार्थ को बाहर निकालने में मदद करता है। जब आपको उल्टी या डायरिया जैसे लक्षण दिखने लगे तो आपको पानी या पेय पदार्थ ज्यादा लेने लगना चाहिए और खाद्य पदार्थ के सेवन को कम कर देना चाहिए। आइए फूड पॉइजनिंग की समस्या को दूर करने के लिए जरूरी घरेलू उपचारों के बारे में जानते हैं। [ये भी पढ़ें: एंटी-बायोटिक दवाओं के रिएक्शन से बचने के घरेलू उपाय]

अदरक:
How to get rid of Food Poisoning by these simple home remediesअदरक में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होता है जो पेट से जुड़ी कई समस्याओं को कम करता है जिसके कारण फूड पॉइजनिंग के लक्षण भी कम हो जाते हैं। इससे शरीर के टॉक्सिंस बाहर आ जाते हैं। खाने के बाद रोजाना अदरक वाली चाय पीने से इस समस्या से राहत मिल सकती है।

सेब का सिरका: सेब का सिरका एसिडिक होता है जिसमें एल्कलाइन इफेक्ट होता है जो शरीर को मेटाबॉलाइज्ड रखता है और यह फूड पॉइजनिंग के लक्षण को कम करता है। इसके अलावा यह पेट के बैक्टीरिया से भी लड़ने में मदद करता है। गर्म पानी में सेब के सिरका को मिलाकर पाने से फूड पॉइजनिंग से राहत मिलती है। [ये भी पढ़ें: इन समस्याओं में आश्चर्यजनक फायदों के लिए करें नारियल तेल का इस्तेमाल]

नींबू:
How to get rid of Food Poisoning by these simple home remediesनींबू में एंटी-इंफ्लेमेट्री, एंटीवायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुण होता है जो आपको फूड पॉइजनिंग के कारण हो रही परेशानी से राहत दिलाता है। एक चम्मच चीनी और नींबू के रस को दिन में 3 बार पिएं। इससे आपको जल्द असर पता चलेगा।

मेथी का बीज और दही: मेथी के बीज और दही में एंटीबैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो उन बैक्टीरिया और फंगस से लड़ता है जिसके कारण फूड पॉइजनिंग की समस्या कम हो जाती है। एक चम्मच मेथी का बीज और दही को मिलाकर खाने से भी इस समस्या से आराम मिलता है।

तुलसी: तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है जो एब्डॉमिनल डिसकम्फर्ट से राहत दिलाता है। इसके अलावा इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण भी होता है जो माइक्रोऑर्गेनिज्म से लड़ता है और फूड पॉइजनिंग के लक्षण को कम करता है। एक चम्मच तुलसी और शहद को खाने से जल्द राहत मिलेगा। [ये भी पढ़ें: किन कामों के लिए फायदेमंद हैं बेकिंग सोडा का इस्तेमाल]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "