पीरियड्स में होने वाले दर्द या क्रैम्प से राहत दिलाएंगे यह घरेलू उपचार

how to get rid of cramps during periods by simple home remedies

पीरियड्स(मासिक धर्म) के दौरान महिलाओं को पेट में दर्द होना एक आम समस्या होती है। मासिक धर्म में क्रैम्प प्रोस्टाग्लैंडीन नामक एक हार्मोन के कारण होता है जो पीरियड्स के दौरान गर्भाशय की मांसपेशियों के संकुचित होने की वजह से होता है। क्रैम्प के कारण पेट के निचले हिस्से और जांघों में दर्द होता है। क्रैम्प की समस्या पीरियड्स पहले या दूसरे दिन में ही होती है तो कुछ महिलाओं को इस दर्द का अनुभव पीरियड्स के पहले होता है। कुछ कारक पीरियड्स में होने वाले दर्द को बढ़ा सकते हैं जैसे कि जेनेटिक्स पीरियड्स के दौरान भारी रक्तस्राव, धूम्रपान, खराब जीवनशैली, शराब का सेवन आदि। इस दौरान दवा का सेवन करना हानिकारक होता है। ये घरेलू उपचार आपको दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: आंखों की खुजली से है परेशान तो अपनाएं ये घरेलू उपचार]

1. अदरक:
how to get rid of cramps during periods by simple home remediesअदरक एक ऐसी जड़ी-बूटी है जो पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से जल्द राहत दिलाता है। यह प्रोस्टाग्लैंडीन हार्मोंन के स्तर को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम के दौरान होने वाले थकान से राहत दिलाता है और अनियमित पीरियड्स को नियमित बना सकता है। अदरक को पानी में 10 मिनट तक उबालें। उस पानी में शहद और नींबू का रस मिलाकर पिएं। ऐसा करने से आपको दर्द से राहत मिलेगी।

2. तुलसी: मासिक धर्म में दर्द और ऐंठन को कम करने के लिए तुलसी एक और एक प्रभावी उपाय है। तुलसी में मौजूद कैफीक एसिड में पेनकिलर के गुण होते हैं जो पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। तुलसी के पत्तों को उबालें। फिर उस पानी को थोड़ी-थोड़ी देर पिएं। इससे आपको दर्द से राहत मिलेगी। [ये भी पढ़ें: लो ब्लडप्रेशर(निम्न रक्तचाप) के लिए घरेलू उपचार]

3. दालचीनी:
how to get rid of cramps during periods by simple home remediesदालचीनी में एंटीस्पास्मोडिक, एंटीक्लॉटिंग और एंटीइंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द के लिए बहुत प्रभावी होते हैं। इसमें फाइबर, कैल्शियम, आयरन और मैगनीज होते हैं जो दर्द और ऐंठन से राहत दिलाते हैं। दालचीनी पाउडर और शहद को गर्म पानी में मिलाकर पीने से क्रैम्प की समस्या कम हो जाती है।

4. सौंफ: सौंफ में एंटीस्पास्मोडिक, फाइटोएस्ट्रोजेनिक और एंटीइंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो यूटेरस के मांसपेशियों में होने वाले खिंचाव को कम करता है जिसके कारण दर्द से राहत मिलती है। सौंफ को पानी में उबालें और उसे थोड़ी देर छोड़ दें। फिर उस पानी को थोड़ी-थोड़ी देर में पिएंगे। इससे दर्द में आराम महसूस होगा।

5. कैमोमाइल-टी: कैमोमाइल-टी में एंटी-इंफ्लेमेट्री और एंटीस्पास्मोडिक गुण होते हैं जो पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत देता है। दर्द के दौरान कैमोमाइल-टी को पिएं इससे राहत मिलेगी।

6. पार्सले: पार्सले में एपियोल और मिरिस्टिकिन नामक तत्व मौजूद होते हैं जो मासिक धर्म में के दौरान होने वाले दर्द और ऐंठन से राहत देने में अत्यधिक प्रभावी होता है। साथ ही, यह अनियमित चक्र को नियमित करने में मदद करता है। पार्सले को पानी में उबालें और उसे 5 मिनट तक पानी में रहने दें। इस पानी को दर्द के समय पिएं। यह आपके क्रैम्प को कम करने में मदद करेगा। [ये भी पढ़ें: दांतों के दर्द में राहत पाने के लिए आजमाएं ये घरेलू उपचार]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "