अगर आप कब्ज की समस्या से हैं परेशान तो आजमाएं ये घरेलू उपाय

how to cure constipation by using home remedies

एक व्यक्ति एक सप्ताह में तीन से बारह बार शौच की प्रक्रिया करता है। इस जब यह प्रक्रिया सप्ताह में तीन बार से कम होने लगे तो वह कब्ज कहलाती है। कब्ज एक मामूली सी बीमारी है पर जब यह जरूरत से ज्यादा होने लगे तो शरीर के लिए बहुत हानिकारक हो सकती है। कब्ज होने के पीछे वैज्ञानिक कारण है कि हमारे पेट से जो बचा हुआ पदार्थ है वह ठीक से बाहर नहीं निकल पाता और वह हमारे पेट में रह जाता है। कब्ज में शौच बहुत मुश्किल से शरीर से बाहर आता है। इसके कारणों में प्रमुख रूप से कम भूख लगना, शरीर में पानी कि कमी, कैल्शियम और पोटैशियम में कमी आना है। मगर कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर कब्ज की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। आइए जानते हैं इन घरेलू उपायों के बारे में। [ये भी पढ़ें: हर्बल तत्व जो दिलाते हैं मुंहासों से छुटकारा]

मुलेठी:मुलेठी में सुक्रोज, ग्लूकोज, रेजींन और स्टार्च होते हैं जो आपके पेट को फायदा पहुंचाती है। इसके अलावा उसमें ग्लिसराइज़िक एसिड होता है, जो आपके पेट में खाने को छोटे-छोटे टुकड़ों में बदलने का काम करता है। आप इसे साबुत चूस सकते हैं या फिर इसके पाउडर को पानी के साथ ले सकते हैं।

कैमोमाइल चाय:कैमोमाइल की चाय भी कब्ज में एक बेहतरीन उपचार है। इसमें पाए जाने वाले एंटीस्पसमोडिक, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल तत्व कब्ज जो दूर करने में मदद करतें है। कैमोमाइल में इसके अलावा फ्लेवोनॉइड तत्व, न्यूरोट्रांसमीटर्स तत्व जैसे डोपामाइन, नोराड्रेनालिन, सेरिटोनिन आपके कब्ज को दूर करता है। आप कैमोमाइल की चाय को कब्ज होने पर दिन में दो से तीन बार पी सकते हैं। [ये भी पढ़ें: सूजन की समस्या से हैं परेशान तो अपनाएं यह घरेलू तरीके]

मेथी:मेथी पेट के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। मेथी के अंदर मौजूद तत्व आपके पेट की हर तकलीफ को दूर करने में सहायक होती है। मेथी में एंटी फंगल और एंटी बैक्टिरियल तत्व होते हैं। यह पेट हो रही मरोड़ और कब्ज को दूर करते हैं। इसको आप खाने के साथ प्रयोग में ला सकते हैं या फिर मेथी के पाउडर को गुनगुने पानी के साथ पी सकते हैं।

अमरुद:अमरुद में मौजूद फोलेट, सोडियम, एंटीऑक्सिडेंट ये सभी पेट को साफ़ करने और हजामा ठीक करने के लिए काम में आते हैं। अमरुद बहुत ही गुणकारी और औषधीय फल है इसमें बहुत से रोगों से लड़ने की ताकत होती है। अमरुद को आप कैसे भी खा सकते हैं। दिन में कम से कम एक से दो अमरुद खाने पर ही आराम मिलना शुरू हो जाता है।

इसबगोल:इसबगोल अपने लैक्सटिव, कूलिंग और डाइयूरेटिक के गुणों के कारण पेट के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। पेट में होने वाले कब्ज को खत्म करने के लिए इसबगोल रामबाण इलाज करता है। इसको आप अलग-अलग रूप में भी खा सकते हैं। इसकी भूसी को पानी में डाल कर फूलने दें और जब वह फूल जाएं तब उसे पी जायें या फिर इसका शरबत बना कर भी पिया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: करें इन तरीकों से पथरी की समस्या को दूर]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "