नाभि में होने वाले इंफेक्शन का घरेलू उपायों की मदद से करें उपचार

Read in English
home remedies to treat belly button infection

photo credit: stumppdecatini-mueller.org

अगर आपको नाभि में सूजन महसूस हो रही है और इसमें बहुत अधिक दर्द हो रहा है तो यह किसी संक्रमण की तरफ इशारा होता है। क्योंकि नाभि व्यक्ति के संवेदनशील हिस्सों में से एक है। नाभि पेट पर होती है जिसमें सबसे ज्यादा बैक्टीरिया एकत्रित होने की संभावना होती है। पसीना, साबुन की वजह से नाभि में इंफेक्शन हो जाता है। जिसकी वजह से बहुत दर्द होता है। इस दर्द को कुछ घरेलू उपायों की मदद से दूर किया जा सकता है। तो आइए आपको इन घरेलू उपायों के बारे में बताते हैं जो नाभि में होने वाले इंफेक्शन को दूर सक सकते हैं। [ये भी पढ़ें: सिर के जुएं को टीट्री ऑयल के इस्तेमाल से कैसे करें खत्म]

गर्म नमक वाला पानी: नाभि में होने वाले इंफेक्शन के लिए के लिए नमक वाला पानी काफी फायदेमंद होता है। पानी की गर्माहट इंफेक्शन वाली जगह पर रक्त प्रवाह पर को बढ़ा देती है और नमक नमी को अवशोषित कर लेता है। इसके लिए एक कप गर्म पानी में एक चमम्च नमक मिला लें। अब इस पानी में कॉटन को भिगोकर नाभि का साफ करें। उसके बाद इसे अच्छी तरह सुखा लें। दोबारा इंफेक्शन ना हो इसके लिए एंटीबैक्टीरियल क्रीम का इस्तेमाल करें। इस तरह से दिन में 1-2 बार करें।

टी ट्री ऑयल:
नाभि पर इंफेक्शन बैक्टीरिया के कारण होता है। टी ट्री ऑयल में मौजूद एंटीफंगल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। जो इंफेक्शन के लिए फायदेमंद होते हैं। इसके लिए 1 चम्मच नारियल के तेल में 4-5 बूंदें टी ट्री ऑयल की मिलाएं। अब इस तेल को कॉटन की मदद से नाभि पर लगाएं। इसे 10 मिनट तक लगे रहने दें। उसके बाद टिशू की मदद से साफ कर लें। इस तरह से दिन में 2-3 बार करें। [ये भी पढ़ें: नाखूनों पर होने वाले सफेद धब्बों को दूर करने के घरेलू उपाय]

सफेद सिरका:
home remedies to treat belly button infectionनाभि के इंफेक्शन को दूर करने के लिए सिरका बहुत ही फायदेमंद है। सिरके की एसिडिक प्रवृत्ति इंफेक्शन से लड़ने और फैलने की रोकथाम करती है। इसके लिए 2 चम्मच गर्म पानी में 1 चम्मच सिरका मिलाएं। अब कॉटन बॉल की मदद से इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। इसे 10-15 मिनट तक लगे रहने दें। उसके बाद गर्म पानी की मदद से इसे साफ कर लें और सुखा लें। इस तरह हफ्ते में 2-3 बार करें।

एलोवेरा:
एलोवेरा में एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं नाभि में होने वाले इंफेक्शन को दूर करने में मदद करते हैं। इसका इस्तेमाल करने से दर्द से भी बहुत जल्दी आराम मिलता है। एलोवेरा का इस्तेमला करन के लिए एक एलोवेरा के पत्ते को काटकर उसका जेल निकाल लें। अब इस जेल को नाभि पर लगाएं और सूखने दें। उसके बाद टिशू की मदद से एलोवेरा जेल को हटा दें। इस तरह से दिन में एक बार करें।

हल्दी:
हल्दी में एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक एजेंट होते हैं जो इंफेक्शन से रोकथाम करते हैं। इसके लिए पानी और हल्दी को मिलाकर एक पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं और सूखने के लिएन छोड़ दें। सूखने के बाद इसे टिशू की मदद से साफ कर लें। इस तरह से दिन में 2- 3 बार करें। इससे दर्द भी कम होता है और इंफेक्शन फैलता भी नहीं है। [ये भी पढ़ें: ज्यादा पलकें झपकाने की समस्या को दूर करने के लिए आजमाएं घरेलू उपाय]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "