Remedies for Chikungunya: चिकनगुनिया से रोकथाम के लिए घरेलू उपचार

Read in English
chikungunya treatment home remedies

Remedies for Chikungunya: चिकनगुनिया के लिए घरेलू उपचार करें

Remedies for Chikungunya: चिकनगुनिया मच्छरों द्वारा काटे जानें की वजह से होता है और यह एक वायरल डिजीज है। चिकनगुनिया के कारण बुखार, सिरदर्द, उल्टी, थकान और मांसपेशियों में दर्द होने जैसी समस्या होने लगती है। इस समस्या से बचने के लिए आपको अधिक से अधिक मच्छरदानी का इस्तेमाल करना चाहिए और अपने आस-पास साफ सफाई भी रखने की कोशिश करनी चाहिए। दिन में भी ये मच्छर कांटते हैं तो आपको सावधानी लेनी चाहिए। हालांकि दवाइयों के सेवन से आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं लेकिन फिर भी घरेलू उपचार का इस्तेमाल आपके लिए प्रभावी हो सकता है क्योंकि इसका आपके शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है और यह आपके शरीर के तापमान को भी नियंत्रित करता है। [ये भी पढ़ें: Remedies for dry scalp: सिर की शुष्क त्वचा को ठीक करने के घरेलू उपाय]

Remedies for Chikungunya: घरेलू उपचार कैसे चिकनगुनिया का इलाज करते हैं

  • नारियल पानी
  • तुलसी
  • पपीता का पत्ता
  • लहसून का पेस्ट
  • हल्दी वाला दूध

नारियल पानी:

Coconuts water treats Chikungunya
Remedies for Chikungunya: नारियल पानी चिकनगुनिया की समस्या को कम करता है

नारियल पानी चीनी और अमीनो एसिड का अच्छा स्त्रोत होता है और पोटेशियम और सोडियम जैसा इलेक्ट्रोलाइट भी होता है जो चिकनगुनिया के लक्षणों को कम करता है। इसके अलावा यह पेट की समस्या को भी कम करता है और मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है।

तुलसी:
तुलसी के पत्ते और इलायची को उबाले और फिर कुछ घंटों के अंतराल में इसे पिएं। इसका सेवन लाभकारी होता है क्योंकि इसमें एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है।

पपीता का पत्ता:
पपीते के पत्ते का जूस को हर 3 घंटे पर पीने से आपकी समस्या कम होती है। इसका सेवन आपके इंफेक्शन को कम करता है क्योंकि इसमें लारविसिडल गुण(larvicidal properties) होते हैं।

लहसून का पेस्ट:
लहसून का पेस्ट बनाएं और उसे प्रभावित हिस्सों पर अच्छी तरह लगाकर कुछ घंटों के लिए छोड़ दें। इस पेस्ट को दिन में दो बार लगाएं। इससे शरीर का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और दर्द से राहत प्रदान करता है।

हल्दी वाला दूध:
हल्दी वाले दूध में कुरकुमिन नामक एंटीऑक्सीडेंट होता है जो एंटी-इंफ्लेमेट्री एजेंट की तरह काम करता है और चिकनगुनिया के लक्षणों को कम करता है। रोजाना सुबह एक गिलास हल्दी वाले दूध का सेवन करें और सोते वक्त भी इसका सेवन जरूर करें।  [ये भी पढ़ें: आंखों के चारों और जमा कोलेस्ट्रोल को कम करने के घरेलू उपाय]

चिकनगुनिया की समस्या को कम करने के लिए दवाइयों के साथ-साथ घरेलू उपचार भी अपनाना चाहिए क्योंकि इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है।

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "