हार्मोन्स के स्तर को संतुलित करने के लिए घरेलू उपाय

home-remedies-to-balance-hormone-levels

हार्मोन शरीर में केमिकल्स का संचार करते हैं। हार्मोन्स का स्राव अंत: स्रावी ग्रंथियों के द्वारा होता है जो कि रक्त के माध्यम से शरीर के अलग-अलग अंगों तक पहुंचते हैं और अंगों की कार्य-प्रणाली को रेगुलेट करते हैं। इन हार्मोन्स का स्राव शरीर में सही मात्रा में होना जरुरी होता है। इनकी मात्रा थोड़ी सी भी कम या ज्यादा होने से हार्मोन्स का बैलेंस बिगड़ जाने की समस्या हो जाती है। हार्मोन्स का स्तर सही ना होने के कारण बाल झड़ना, माइग्रेन, त्वचा की बीमारियां, मुंहासे, थकान, वजन बढ़ना, डिप्रेशन जैसी अनेक समस्याएं पैदा हो जाती हैं। हार्मोन्स के असंतुलित होने के कारण उत्पन्न दुष्प्रभावों को कम करने के लिए और हार्मोन्स का सही संतुलन बनाए रखने के लिए आप कुछ घरेलू उपायों का इस्तेमाल कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: पैरों की सूजन को कम करने के घरेलू उपाय]

1.विटामिन डी: हार्मोन्स का संतुलन बनाने के लिए विटामिन डी अत्यंत उपयोगी होता है। विटामिन डी पैराथाइरॉइड ग्रंथि और पिट्यूटरी ग्लैंड को स्वस्थ रुप से हार्मोन स्रावित करने के लिए प्रेरित करता है। साथ ही एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी के कारण होने वाले बुरे प्रभावों को कम करने में भी मदद करता है। इसलिए विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे ऑयली फिश, कॉड लिवर ऑयल, दूध आदि का सेवन करना लाभकारी होता है।

2. एक्सरसाइज करना: हार्मोन असंतुलन के कारण वजन बढ़ना, मूड स्विंग्स जैसी परेशानियां हो सकती हैं। एक्सरसाइज करने से ब्रेन हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है साथ ही तनाव पैदा करने वाले कोर्टिसोल हार्मोन का स्तर कम हो जाता है। साथ ही वजन कम करने के लिए भी एक्सरसाइज करना फायदेमंद होता है। इसलिए एक्सरसाइज करने से हार्मोन असंतुलन को कम करने में मदद मिलती है। [ये भी पढ़ें: सेब के सिरके की मदद से डैंड्रफ से पाएं छुटकारा]

3.अश्वगंधा: अश्वगंधा थाइरॉइड हार्मोन के स्राव को प्रेरित करता है। अश्वगंधा का सेवन करने से तनाव को कम करने में भी मदद मिलती है क्योंकि यह कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है। थाइरॉइड हार्मोन के स्तर को सही बनाए रखने के लिए अश्वगंधा लाभकारी होता है। डॉक्टर के परामर्श के अनुसार सेवन अश्वगंधा का सेवन करना हार्मोन बैलेंस करने के लिए फायदेमंद होता है।

4. तुलसी: हार्मोन्स को बैलेंस करने के लिए तुलसी एक प्राकृतिक उत्प्रेरक होता है जो कि ब्लड इंसुलिन हार्मोन के स्तर को बढ़ाता है। तुलसी का सेवन करने से कोर्टिसोल का स्तर भी कम होता है। तनाव, ब्लड शुगर के स्तर को कम करने के लिए भी तुलसी का सेवन लाभकारी होता है। हार्मोन बैलेंस के लिए तुलसी की चाय पीना और खाली पेट तुलसी खाना लाभकारी होता है। [ये भी पढ़ें: घरेलू उपाय जो आपको गर्मियों में ताजा रखने में मदद करते हैं]

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "