वेरिकोस वेंस के उपचार के लिए उपयोगी घरेलू उपाय

home-remedies-for-varicose-veins

वेरिकोस वेंस एक आम समस्या है जिसमें आपके शरीर के किसी भी हिस्से की नसें खासतौर पर पैरों की नसें अप्राकृतिक रुप से फैल जाती हैं और त्वचा पर उभरी हुई दिखने लगती हैं। ये आमतौर पर पैरों और जांघ पर होती हैं। ऐसे में ये नसें कमजोर हो जाती हैं और इनकी कार्यक्षमता कम होने लगती है। इस प्रकार नसों के प्रसार से आपको दर्द, थकान, बेचैनी, जलन और पैरों में भारीपन की परेशानी हो सकती हैं। वेरिकोस वेंस का मुख्य कारण मोटापा, बहुत देर तक खड़े रहना, कब्ज और हार्मोन्स परिवर्तन आदि हो सकता है। वेरिकोस वेंस का ईलाज काफी महंगा हो सकता है। इस परेशानी से निजात पाने के लिए आप कुछ घरेलू और प्राकृतिक उपायों की सहायता ले सकते हैं। आइए जानते हैं इन घरेलू और प्राकृतिक उपायों के बारे में। [ये भी पढ़ें: एंग्जायटी को कम करने के लिए घरेलू उपाय]

1.एप्पल साइडर वेनेगर: सेब का सिरका वेरिकोस वेंस के लिए सबसे उपयोगी औषधि है। यह प्राकृतिक रुप से शरीर को साफ करने के लिए उपयोगी होता है। यह रक्त संचार और नसों में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है, जिससे जब प्राकृतिक रुप से नसों में रक्त का बहना शुरु होता है तो इससे नसों का भारीपन, सूजन और वेरिकोंस वेंस की परेशानी कम होती है।

कैसे करें इस्तेमाल:

  • एप्पल साइडर वेनेगर को एक गिलास पानी में 2 चम्मच मिलाकर दिन में 2 बार पिएं।
  • एप्पल साइडर वेनेगर को त्वचा के प्रभावित हिस्से पर सीधे लगाएं और हल्के हाथों से मसाज करें। इसे आप रोजाना कर सकते हैं।

2. ऑलिव ऑयल: वेरिकोंस वेन को ठीक करने के लिए ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने की आवश्यकता होता है। इस प्रकार ऑलिव ऑयल की मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है और सूजन और दर्द कम होता है।[ये भी पढ़ें: हाई ब्लड प्रेशर को कम करने के घरेलू उपाय]

कैसे करें इस्तेमाल: 

  • ऑलिव ऑयल में विटामिन E का कैप्सूल मिलाएं और इसे गर्म करके पैरों पर मसाज करें।
  • इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहराएं।

3. लहसुन: लहसुन इस दर्द और सूजन को कम करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण औषधि है। यह ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाती है और हानिकारक टॉक्सिन्स को रक्त शिराओं से निकालती है।

कैसे करें इस्तेमाल:

  • 5-6 लहसुन की कलियों का रस निकालें और इसमें थोड़ा सा ऑलिव ऑयल डालें।
  • इसे 12 घंटे तक रखा रहने दें और फिर कुछ बूंदें लेकर मसाज करें।

4.अंगूर की पत्तियां: अंगूर की पत्तियों में अच्छी मात्रा में फ्लैवेनॉइड होते हैं। इन पत्तियों में एंटी-इंफ्लेमेंट्री, और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कि इस बीमारी के उपचार के लिए काफी उपयोगी होता है।

कैसे करें इस्तेमाल:

  • इसे इस्तेमाल करने के लिए अंगूर की पत्तियों को 15 मिनट पानी में उबाले।
  • इस गर्म पानी को बाल्टी में डालकर पैरों को इनमें डुबोएं।
  • फिर पैरों को ठंडे पानी में डाल कर रखें।
  • पैरों को सुखाकर कैस्टर ऑयल से मसाज करें।

5.पार्सले: पार्सले में विटामिन C भरपूर मात्रा में होता है जो कि एक शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडे्ंट होता है। यह कोलेजन को पैदा करता है और कोशिकाओं को ठीक करने में सहायता करता है जिससे इस बीमारी को ठीक करने में मदद मिलती है।

  • पार्सले को काटकर पानी में डालकर 5 मिनट के लिए उबालें।
  • इसमे कुछ बूंद मेरीगोल्ड एसेशिंयल ऑयल डालकर इसे हल्का ठंडा करके इसे स्टोर कर लें।
  • इसे फ्रिज में रखें और इससे प्रभावित हिस्से पर रोजाना मसाज करें। [ये भी पढ़ें: कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए घरेलू उपाय]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "