इन घरेलू उपायों से दूर होगी गले में खराश

best home remedies to cure sore throat

गले में खराश या दर्द होने पर व्यक्ति को बहुत अधिक परेशानी और असुविधा महसूस होती है। यह कभी-कभी जुकाम होने का संकेत भी होता हैं। गले में दर्द बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण होता है। इसी के कारण गले में सूजन भी आ जाती है। ज्यादातर लोगों में गले की खराश कुछ समय बाद अपने आप ठीक हो जाती है लेकिन अगर आपके गले की खराश, सूजन या दर्द की समस्या नहीं जा पा रही है तो आप इस समस्या का निजात निम्नलिखित घरेलु तरीकों से कर सकते हैं।

1- गर्म पानी में नमक मिलाकर गरारे करें:
best home remedies to cure sore throatगले में दर्द या खराश के लिए सबसे पुराना घरेलू तरीका गर्म पानी से गरारे करना होता है। यह आपके गले की सूजन और दर्द को कम करने में मदद करता है। गर्म पानी में आधा छोटा चम्मच नमक डालकर गरारे करें। याद रहे गरारे करने के बाद इस पानी को पियें नहीं बल्कि थूक दें। एक घंटे में एक बार गरारे करने से यह गले में खराश, दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है।

2- गर्म नींबू पानी का सेवन करें:
एक कप गर्म पानी में एक चम्मच नींबू का रस, एक चम्मच शहद और हल्की सी काली मिर्च डालकर पीयें। इसके सेवन से आपके गले में दर्द, खराश और सूजन को जल्दी कम करने में मदद मिलती है। लेकिन ध्यान रहे ज्यादा मात्रा में मिर्च का इस्तेमाल ना करें। ज्यादा मात्रा में मिर्च का इस्तेमाल करने से मुंह में जलन भी हो सकती है। [ये भी पढ़ें: इन घरेलू उपायों से चुटकियों में दूर हो सकते हैं डार्क सर्कल]
4- ब्लैक टी:
एक कप गर्म ब्लैक टी का सेवन करने से गले को बहुत आराम मिलता है। ब्लैक टी में टैनीन नाम का तत्व होता है जो गले की सूजन को कम करने में मदद करता है। आप इसमें शहद या नींबू भी मिला सकते हैं।
5-शहद:
शहद खांसी और गले में दर्द को कम करने में मदद करता है। यह गले को आराम पहुंचाता है। सोते समय दो चम्मच शहद का सेवन करने से यह खराश और खांसी को ठीक करने में मदद करता है। इसके साथ ही आप शहद का सेवन दिन में एक बार भी कर सकते हैं। मगर ध्यान रहे कि एक साल से छोटे बच्चे को शहद नहीं देना चाहिए। [ये भी पढ़ें: छोटे बच्चों में होने वाली समस्याओं के घरेलू उपचार]
6-मुलेठी:
बहुत सालों से गले के दर्द को ठीक करने के लिए मुलेठी की जड़ का इस्तेमाल किया जा रहा है। एक शोध के अनुसार पेट में अल्सर या एलर्जी के लिए मुलेठी का इस्तेमाल किया जाता है। हर्बल चाय में मुलेठी होती है जो गले के लिए अच्छी होती है लेकिन ज्यादा मात्रा में मुलेठी का सेवन करने से ब्लड प्रेशर बढ़ने के साथ शरीर में कोर्टिसोल हार्मोंस के लेवल भी बढ़ जाता है। हृदय रोगों और हाई ब्लड प्रेशर से ग्रसित लोगों को मुलेठी का सेवन नहीं करना चाहिए।

7-कैमोमाइल चाय:
कैमोमाइल चाय प्राकृतिक रुप से गले में दर्द या खराश को दूर करने में मदद करती है। कैमोमाइल के भाप से जुकाम के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। इस चाय का सेवन करने से कई अन्य शारीरिक फायदे भी होते हैं।

    उपयोग की शर्तें

    " यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "