अदरक के सेवन से पाचनतंत्र को क्या फायदे होते हैं

what are the ginger benefits for digestion

अदरक एक स्वास्थ्यवर्धक हर्ब है, जिसके सेवन से कई शारीरिक समस्याओं का इलाज संभव है। यह वजन घटाने, अल्झाइमर से बचने और रोग-प्रतिरोधक क्षमता को सुधारने के लिए फायदेमंद प्राकृतिक उपाय है। अदरक आपकी छोटी और बड़ी आंतों को मजबूत बनाकर पाचन शक्ति को बेहतर बनाता है। अदरक के सेवन से आपके भोजन के टूटने की प्रक्रिया तेज होती है, जिससे पेट संबंधी समस्याएं नहीं होती और आपका स्वास्थ्य ठीक रहता है और अपशिष्ट पदार्थ आसानी से बाहर निकल जाते हैं। आइए जानते हैं कि अदरक के सेवन से आपका पाचनतंत्र कैसे बेहतर बनता है। [ये भी पढ़ें: फूड पॉइजनिंग और पाचन से संबंधित समस्या को दूर करने के लिए मददगार है तुलसी]

1.आंत संबंधी समस्याओं से निजात: आजकल अधिकतर लोगों को पेट में ऐंठन, पेट फूलना, कब्ज और डायरिया जैसी आंतों से संबंधित समस्याएं होती हैं। अपने आहार में अदरक को शामिल करने से इन समस्याओं से निजात मिल सकती है। अदरक के सेवन से आपकी आंते आरामदायक स्थिति में रहती हैं और इन समस्याओं के भविष्य में होने की आशंका भी कम होती है।

2.छाती में जलन से राहत: जब आपके पेट में बनने वाला एसिड जगह ना मिल पाने के कारण छाती की तरफ उठने लगता है, तो आपको सीने में जलन की शिकायत होने लगती है। अदरक के सेवन से आपके पेट की इसोफेगाल अवरोधिनी बंद रहती है, जिससे एसिड पेट से बाहर नहीं निकल पाता और आपको सीने में जलन नहीं होती। साथ ही अदरक उन नुकसानदायक बैक्टीरिया को भी नहीं बनने देता, जो एसिड के बनने की वजह होते हैं। [ये भी पढ़ें: चेहरे और बालों के लिए फायदेमंद है अजवाइन]

3.पोषक तत्वों को अवशोषित करने की क्षमता बढ़ाता है:
what are the ginger benefits for digestionआहार में पोषक तत्वों को शामिल कर लेने से ही आपका स्वास्थ्य बेहतर नहीं बनता, बल्कि इसके साथ आपके पाचनतंत्र द्वारा इसे अवशोषित करने की क्षमता भी ठीक होनी चाहिए। खाना खाने से पहले अदरक वाली चाय पीने या आहार में अदरक को शामिल करने से आपका शरीर पोषक तत्वों को पहले से ज्यादा अवशोषित कर पाता है, जिससे आपकी सेहत सुधरती है।

4.सफर में उल्टियां नहीं आती: बहुत से लोगों को कार, बस या हवाई जहाज में सफर करते हुए उल्टियां आने की शिकायत होती है। दरअसल ऐसा पेट के अशांत होने के कारण होता है। सफर करने से पहले अदरक की चाय पीने से आपके पेट की अशांत स्थिति सुधरती है और आप आरामदायक सफर का आनंद ले पाते हैं। [ये भी पढ़ें: तुलसी के पत्तों से करें प्राकृतिक रुप से खांसी का इलाज]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "