तुलसी का अधिक सेवन करने के दुष्प्रभाव

Read in English
side-effects-of-holy-basil-or-tulsi-one-must-know

तुलसी को स्वास्थ्य के लिए एक बेहद लाभकारी हर्ब माना जाता है। आयुर्वेद में तुलसी का इस्तेमाल अनेक बीमारियों से बचने के लिए किया जाता है। तुलसी का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है, लेकिन इसका अत्यधिक सेवन आपको नुकसान पहुंचा सकता है क्योंकि किसी भी चीज का अत्यधिक सेवन करना आपके स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकता है। तुसली में पोषक तत्वों के साथ-साथ कई ऐसे तत्व भी होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। आइए जानते हैं कि जरुरत से ज्यादा तुलसी खाने से आपके शरीर के पर क्या-क्या दुष्प्रभाव पड़ते हैं।[ये भी पढ़ें: जड़ी-बूटी जिनका रोजाना सेवन करना लाभकारी हो सकता है]

1.खून को पतला करती है:  तुलसी में एंटी-क्लॉटिंग गुण होता है जिसकी वजह से अत्यधिक मात्रा में तुलसी का सेवन करने से खून पतला हो जाता है और रक्त का थक्का बनने में परेशानी होती है। ऐसे में अगर आपको पहले से ही खून का थक्का ना बनने की परेशानी है तो आपको डॉक्टर की सलाह लेकर ही तुलसी का सेवन करना चाहिए।

2.गर्भावस्था क दौरान: तुलसी का अत्यधिक सेवन करना गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकता है। तुलसी में एंटी-क्लॉटिंग गुण होता है जिससे तेजी से रक्त का थक्का नहीं बन पाता और प्रसव या सर्जरी के दौरान महिलाओं को अधिक रक्तस्राव जैसी समस्या हो सकती है। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक तुलसी के सेवन से बचना चाहिए।[ये भी पढ़ें: मेथी के पत्तों का सेवन स्वास्थ्य के लिए होता है लाभकारी]

3.दांतों के लिए हानिकारक: तुलसी में आयरन होता है जो कि दांतों को दागदार बना देता है। हालांकि इससे दांत खराब नहीं होते हैं, लेकिन उनकी प्राकृतिक चमक खत्म हो जाती है। इसलिए तुलसी को चबाने के बजाय आप इसका थोड़ा सा रस पी सकते हैं।

4.हाइपोग्लाइसीमिया: अगर आप डायबिटीज के उपचार के लिए दवाएं खा रहे हैं, तो आपको डॉक्टर के परामर्श के बिना तुलसी का सेवन नहीं करना चाहिए। तुलसी का सेवन करने से ब्लड में शुगर का स्तर कम हो जाता है। ज्यादा तुलसी का सेवन करने से ब्लड शुगर बहुत कम हो जाता है, इस परिस्थिति को हाइपोग्लाइसीमिया कहते हैं। शरीर के किसी अंग का कांपना, चक्कर आना और जलन जैसी समस्या होना हाइपोग्लाइसीमिया का संकेत होता है, ऐसे में तुलसी का सेवन कम करना ही फायदेमंद होता है।[ये भी पढ़ें: धनिया पत्ती के स्वास्थ्यवर्धक लाभ]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "