एलर्जी दूर करने के लिए हल्दी का इस्तेमाल करें

Read in English
how to use turmeric to cure allergies

इम्यून सिस्टम के अत्यधिक प्रतिक्रिया की वजह से एलर्जी होती है। जब भी शरीर को सफेद रक्त कोशिकाएं को नियमित करते वाले एलर्जीन इम्युनोग्लोब्युलिन ई (आईजीई) का सामना करता है तो इसके परिणामस्वरुप कई तरह की एलर्जी और सूजन हो जाती है। इस समस्या को दूर करने के लिए हल्दी एक बेहतर विकल्प है। हल्दी एक हर्ब है जिसमें कई गुण होते हैं जो एलर्जी से लड़ने में मदद करते हैं। हल्दी में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण एलर्जी से लड़ने में मदद करते हैं। हल्दी का इस्तेमाल अपनी डाइट में करके एलर्जी से बचा जा सकता है। तो आइए आपको बताते हैं कि एलर्जी दूर करने के लिए हल्दी कैसे मददगार होती है। [ये भी पढ़ें: जड़ी-बूटी जिनका रोजाना सेवन करना लाभकारी हो सकता है]

हल्दी कैसे फायदेमंद है: हल्दी में कुरकुमिन होने की वजह से इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। यह शरीर में होने वाली सूजन के लिए जिम्मेदार एंजाइम को कम करते हैं और त्वचा में होने वाली सूजन का इलाज करने में मदद करता है। एलर्जी का इलाज करने के लिए हल्दी को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

एलर्जी के कारण: एलर्जी होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। गलत भोजन का सेवन, दवाईयों, किसी कीड़े का काट जाना या सीजनल एलर्जी, धुएं की वजह जैसे कई कारणों की वजह से एलर्जी हो सकती है। पित्ती, लाल निशान, जुकाम, आंखों में जलन और गले में दर्द एलर्जी के कारण होते हैं। अगर इस एलर्जी का इलाज ना किया जाए तो कई समस्याएं हो सकती है। [ये भी पढ़ें: मेथी के पत्तों का सेवन स्वास्थ्य के लिए होता है लाभकारी]

हल्दी से कैसे इलाज करें:

मेथड-1
एलर्जी का इलाज करने के लिए हल्दी दूध बहुत फायदेमंद होता है। यह गले में होने वाली जलन और दर्द को दूर करने में मदद करता है। इसके लए रोज सुबह या रात को एक गिलास हल्दी वाला दूध पिएं।
इसे बनाने के लिए एक गिलास गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं। आप इसमें शहद और काली मिर्च मिलाएं। अब इन सबको मिला लें। इस दूध को सुबह खाली पेट पिएं।

मेथड-2
1 बाउल में 1 चम्मच हल्दी में सिरका, शहद, बचा हुआ नींबू मिलाकर एक पेस्ट बना लें। आप इस पेस्ट को फ्रिज में भी रख सकते हैं और आप इसे स्मूदी में मिलाकर पी सकते हैं।रोजाना एक चम्मच पेस्ट का सेवन एलर्जी से रोकथाम करने में मदद करता है। आप इसे गर्म पानी में मिलाकर टॉनिक की तरह भी पी सकते हैं। [ये भी पढ़ें: धनिया पत्ती के स्वास्थ्यवर्धक लाभ]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "