युकलिप्टस से होते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

amazing health benefits of eucalyptus

युकलिप्टस(नीलगिरी) शरीर से माइक्रोऑर्गेनिज्म और हानिकारक विषाक्त पदार्थ को नष्ट कर देता है जिसके कारण व्यक्ति अस्वस्थ महसूस करता है। नीलगिरी से श्वसन समस्या का कम होना, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत होना और त्वचा की रक्षा जैसे स्वास्थ्य लाभ होते हैं। इसमें एंटीबैक्टीरियल और कूलिंग इफेक्ट होता हैं जो शरीर में होने वाले इंफेक्शन से बचाने में मदद करता है। आइए आपको नीलगिरी से होने वाले स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: अश्वगंधा के स्वास्थ्य लाभ]

1. श्वसन संबंधी समस्या के लिए: नीलगिरी के पत्ते और तेल का उपयोग सांस संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। नीलगिरी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो सांस की नली से बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करते है जो गले से कफ और बलगम को हटाने में मदद करते हैं। सर्दी-जुखाम के दौरान ये सारे गुण सक्रिय हो जाते हैं जिसकी वजह से सांस लेते वक्त कठिनाई महसूस नहीं होती है।

2. दर्द से राहत दिलाता है: युकलिप्टस में एनल्जेसिक और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो शरीर के विभिन्न हिस्सों में होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। नीलगिरी का तेल गठिया, मांसपेशियों में ऐंठन, फाइब्रोसिस और अन्य प्रकार के शरीर के दर्द को राहत देने में मदद करता है। नीलगिरी के तेल को प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से जल्द आराम मिलता है। [ये भी पढ़ें: स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं में कारगर है अजवाइन]

3. प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है: युकलिप्टस में एंटीइंफ्लेमेट्री और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। यह शरीर को बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचाता है जैसे- ई-कोलाई और कैंडीडा एल्बिकन्स। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर से विषाक्त पदार्थ को नष्ट करने में मदद करते हैं। अगर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली किसी अन्य बीमारी के कारण ठीक तरह से काम नहीं कर पा रही तो युकलिप्टुस-टी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए एक नेचुरल बूस्टर के रूप में कार्य करता है।

4. चिंता और तनाव से मुक्ति: युकलिप्टस में नेचुरल सिडेटिव और सूदिंग इफेक्ट होते हैं जो लंबे समय से तनाव से ग्रसित व्यक्ति के लिए बहुत प्रभावी होते हैं। ज्यादातर लोग तनाव और चिंता से छुटकारा पाने के लिए दवाइयों का सहारा लेते हैं लेकिन घरेलू उपचार आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होते हैं और इनका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। शरीर में कोर्टिसोल नामक हार्मोन के बढ़ने से तनाव की समस्या उत्पन्न होती है। युकलिप्टुस-टी इस हार्मोन को नियंत्रित करता है जिससे मानसिक तनाव कम होता है।

5. त्वचा के लिए: युकलिप्टस में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो त्वचा के स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। संक्रमित त्वचा पर नीलगिरी के पत्तों को पीसकर लगाना बहुत प्रभावी होता है। नीलगिरी का तेल त्वचा को कई प्रकार के इंफेक्शन से बचाने में मदद करता है। इससे त्वचा में कोमलता आती है और सारे दाग-धब्बे भी गायब हो जाते हैं। नीलगिरी के तेल को रात में लगाकर सोने से त्वचा में चमक भी आती है। [ये भी पढ़ें: जड़ी बूटियों के इस्तेमाल से पाएं धूम्रपान की लत से छुटकारा]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "