नींबू पानी से जुड़े मिथक

Read in English
myths about lemon water you need to know

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लोग सुबह उठकर नींबू पानी का सेवन करना पसंद करते हैं। नींबू में सिट्रिक एसिड होता है और यह विटामिन सी का महत्वपूर्ण स्त्रोत भी होता है। नींबू पानी का सेवन कई समस्याओं से राहत पाने के लिए किया जाता है। नींबू पानी में विटामिन सी होता है जो इम्यूनिटी को बूस्ट करने में मदद करता है साथ ही आयरन के अवशोषण को बढ़ाता है। नींबू पानी का सेवन आपको पूरे दिन ताजा महसूस कराने में मदद करता है। यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। मगर इससे जुड़े कई मिथक भी हैं जिनके बारे में लोगों को पता होना जरुरी होता है। तो आइए आपको नींबू पानी से जुड़े मिथकों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: ग्रीन टी पीने का सही समय क्या है]

मिथक-1 वजन कम करने में मददगार: कुछ लोगों को लगता है कि नींबू में पेक्टिन फाइबर पाया जाता है जो वजन कम करने में मदद करता है लेकिन इसमें बहुत कम मात्रा में फाइबर होता है। फाइबर पाचनतंत्र को धीमा करता है और पाचन की प्रक्रिया में मदद करता है। नींबू के रस में पेक्टिन फाइबर नहीं होता है। जिससे वजन कम होता है। नींबू पानी में कम मात्रा में कैलोरी होती है जो वजन कम करने में मददगार हो सकती हैं लेकिन इससे वजन कम नहीं होता है।

मिथक-2 मेटाबॉल्जिम की गति बढ़ाना: मेटाबॉल्जिम को बढ़ाने के लिए बहुत से लोग सुबह उठकर नींबू पानी पीते हैं। नींबू पानी पीने से मेटाबॉल्जिम की गति नहीं बढ़ती है। इसकी वजह आप लाल मिर्च जैसे कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं जिनमें थर्मिक इफेक्ट होते हैं। यह खाद्य पदार्थ मेटाबॉल्जिम की गति को बढ़ाने में मददगार होते हैं। [ये भी पढ़ें: घर पर मिनरल वॉटर कैसे बनाएं]

मिथक-3 शरीर को डिटॉक्सीफाइ करता है: शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए कई लोग नींबू पानी पीते हैं लेकिन किसी भी रिसर्च के मुताबिक यह बात ठीक नहीं है। नींबू में उच्च विटामिन सी पाया जाता है जो बाकि कई खाद्य पदार्थों में भी होता है। मगर इसका मतलब यह नहीं कि नींबू पानी शरीर को डिटॉक्सीफाइ करता है।

मिथक-4 एंटी-एजिंग गुण: नींबू पानी में उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं लेकिन इसका एजिंग से कोई संबंध नहीं होता है। नींबू पानी में उच्च मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है जो त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है। यह कोलेजन के उत्पादन में भी मदद करता है। मगर ऐसे कई फूड्स हैं जिनमें विटामिन सी उच्च मात्रा में पाया जाता है जो त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। [ये भी पढ़ें: ग्रीन-टी के सेवन से होने वाला दुष्प्रभाव]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "