हल्दी के जूस का सेवन करना क्यों है फायदेमंद

health benefits of drinking turmeric juice

photo credit: baomoi.com

हल्दी सभी के किचन में पाई जाने वाली सामान्य सामग्री है। किचन में इस्तेमाल होने के साथ इसमें औषधीय गुण भी होते हैं। हल्दी में 300 से ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। हल्दी की जगह आप हल्दी जूस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। हल्दी की जड़ों का इस्तेमाल हर्बल दवाईयां बनाने के लिए किया जाता है। इसका स्वाद थोड़ा कड़वा होता है। हल्दी के जूस का सेवन शरीर के लिए फायदेमंद होता है साथ ही खून को पतला करने में मदद करता है। तो आइए आपको हल्दी का जूस बनाने की विधि और इससे होने वाले स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताते हैं। [ये भी पढ़ें: अदरक और गाजर के जूस का सेवन क्यों हैं लाभकारी]

हल्दी का जूस बनाने की विधि:

आवश्यक सामग्री:

  • हल्दी की जड़ों के कुछ टुकड़े
  • 1-2 नींबू का रस
  • अदरक जूस
  • शहद
  • ठंडा पानी

कैसे बनाएं: इसे बनाने के लिए हल्दी की ताजी जड़ों को छीलकर पानी से धोकर ग्राइंड करके उसका जूस बना लें। उसके बाद इसे ठंडा करने के लिए फ्रिज में रख दें। जब यह ठंडा हो जाए तो एक जग में 2 चम्मच हल्दी का जूस उसके साथ नींबू का रस और थोड़ा सा अदरक का जूस डालकर मिलाएं। उसके बाद इसमें 2 चम्मच शहद और 2 कप ठंडा पानी मिलाकर इन सबको अच्छी तरह मिला लें। इसका स्वाद बढ़ाने के लिए आप जाते पुदीना या धनिए की पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: ओरेंज ट्विस्ट स्पोर्ट्स ड्रिंक जिसका सेवन वर्कआउट के दौरान होगा बेहतर]

हल्दी के जूस से होने वाले फायदे:

अर्थराइटिस के दर्द को कम करता है: हल्दी में कुरकुमिन नामक यौगिक होता है जिसमें एंटीइंफ्लेमेट्री और एंटीऑक्सींडेंट गुण होते हैं जो सूजन को कम करने में मदद करते हैं। हल्दी का जूस दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। अर्थराइटिस को बढ़ने से रोकने में भी हल्दी का जूस फायदेमंद होता है।

पाचन संबंधी समस्या दूर करता है: अगर भोजन पचने में दिक्कत हो रही है तो घर पर बना हल्दी का जूस इसका सबसे बेहतर उपाय है। हल्दी सूजन को कम करने के लिए पित्ताशय को उत्तेजित करती हैं। जिससे और पाचन, गैस, जी जलना और कब्ज के लक्षण कम होने लगते हैं। इसके साथ ही हल्दी का जूस पाचन में सुधार करके शरीर के मेटाबोलिक रेट को बढ़ाता है।

हृदय को स्वस्थ रखता है: हल्दी का जूस हृदय के कार्य को स्वस्थ रखने में मदद करता है। हल्दी के जूस में मौजूद कुरकुमिन लो डेन्सिटी लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। जिससे कार्डियोवॉस्कुलर डिजीज से रोकथाम होती है। साथ ही स्ट्रोक का खतरा भी कम हो जाता है।

ब्लड शुगर को नियमित करता है: हल्दी का जूस ब्लड शुगर लेवल को नियमित करने में मदद करता है। यह अग्नाश्य को सही तरह से काम करने में मदद करता है। जिससे इंसुलिन का लेवल नियमित और संतुलित रहता है। [ये भी पढ़ें: सेब के सिरके और अनानास से बनी स्मूदी की मदद से घटाएं वजन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "