खीरे का पानी आपके स्वास्थ्य को देता है ढ़ेरों लाभ

amazing health benefits of cucumber water you must know

अगर आप अपनी प्यास को बुझाने के लिए किसी अच्छे और स्वास्थ्यवर्धक पेय की तलाश में हैं, तो समझ लीजिए कि आपकी ये तलाश खत्म हो चुकी है। कई बार ऐसा होता है कि आपको बहुत प्यास लगी होती है लेकिन आपका मन सादा पानी पीने के लिए राजी नहीं होता। यह एक अच्छा और स्वस्थ विकल्प है कि आप पानी की जगह एक ऐसा पेय चुनें जो स्वादिष्ट हो और आपके स्वास्थ्य को भी बढ़ाएं। खीरे का पानी इन स्वास्थ्यवर्धक पेय में से एक है। यह ना केवल शरीर को हाइड्रेट रखता है, बल्कि आपके स्वास्थ्य और यहां तक कि आपकी त्वचा के लिए भी इसके बहुत से फायदे हैं। आइए बताते हैं कि किसलिए आपको खीरे का पानी पीना शुरू करना चाहिए और इसके स्वास्थ्य लाभ क्या हैं। [ये भी पढ़ें: एवोकाडो के सेवन से शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव]

खीरे का पानी बनाने के लिए आपको चाहिए:

  • एक खीरा और पानी

कैसे बनाएं:  खीरे का पानी बनाने के लिए पहले खीरे को अच्छी तरह से धो लें। इसके बाद इसे आधा छील लें और आधा बिना छीले ही रहने दें। अब खीरे को स्लाइस में काटें। इन स्लाइस को एक साफ जग में डाल लें। जग में पानी भरें। पानी की मात्रा खीरे के स्लाइस के अनुसार रखें। अगर आप एक खीरे का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आधा जग पानी का उपयोग करें। थोड़ी देर इसे रख दें और उसके बाद इसका इस्तेमाल करें। आप इसका इस्तेमाल दो दिन तक कर सकते हैं। इससे ज्यादा दिन इसे ना रखें।

यह आपकी मांसपेशियों को स्वस्थ रखता है:  खीरे में सिलिका पाया जाता है जिसके कारण शरीर के संयोजी ऊतक स्वस्थ रहते हैं। इससे आपकी मांसपेशियां स्वस्थ रहती हैं। खासकर जब आप खीरे के पानी का नियमित रूप से सेवन करते हैं। इसके लिए बस अपनी पानी की बोतल में खीरे के कुछ टुकड़े डालें और इस पानी का सेवन करें। व्यायाम के दौरान भी इसका सेवन आपके लिए फायदेमंद होगा क्योंकि यह आपकी मांसपेशियों को आवश्यक ट्रेस मिनरल्स देगा।

सांस को फ्रेश रखता है:  पेट में अत्यधिक गर्मी होने के कारण सांस से गंध आने लगती है। खीरे के पानी में हाइड्रेटिंग प्रोपर्टीज होती हैं। इसका सेवन करने से आप हाइड्रेटेड रहते हैं और यह पेट से अतिरिक्त गर्मी को कम करता है। इसके अलावा खीरा आपके मुंह के तलवे पर जमा होने वाले जीवाणुओं को नष्ट करने में मदद करता है जिससे सांस से गंध नहीं आती।  [ये भी पढ़ें: स्वस्थ त्वचा के लिए करें इन सुपरफूड्स का सेवन]

इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है:  कुछ लोग अधिक कैलोरी के सेवन को लेकर चिंतित रहते हैं तो आपको बता दें कि खीरे के पानी का सेवन करते वक्त आपको इस बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि इस ड्रिंक में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती हैं। एक पूरे खीरे में केवल 45 कैलोरी पाई जाती हैं। इसलिए इसके कुछ टुकड़े लेने से आपके शरीर में कैलोरी ना के बराबर ही जाएंगी और आप खुद को स्वस्थ रख पाएंगे।

यह शरीर को साफ रखता है:  खीरे का पानी शरीर को डिटॉक्सिफाय करने के लिए जाना जाता है। खीरे में विटामिन सी और बीटा कैरोटीन एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाएं जाते हैं जो शरीर के अंगों से विषैले पदार्थों को निकालने के काफी फायदेमंद होते हैं। आप इसके लिए खीरे के जूस का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

विटामिन और मिनरल्स की पूर्ति: हालांकि खीरा आपको एक साधारण सब्जी की तरह लगता है लेकिन शायद ही आप जानते होंगे कि इसमें प्रचुर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते है। एक खीरे में विटमाइन ए, विटामिन बी-6, विटामिन सी, मैग्नेशियम और कैल्शियम पाए जाते हैं। ये सभी पोषक तत्व आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होते हैं। अपने पानी के गिलास में खीरा मिलाकर इसका सेवन करें और फिर इसके लाभ देखें।

आपकी त्वचा के लिए अच्छा होता है:  खीरे में पाया जाने वाला सिलिका आपकी त्वचा के लिए फायदेमंद होता है। इससे मुंहासे और त्वचा की अन्य समस्याओं को रोकने में मदद मिलती है। खीरा आपके चेहरे की रंगत को सुधारने में भी मदद करता है। आप इसका फेस मास्क बना सकते हैं। साथ ही इसके स्लाइस आंखों पर रखने से डार्क सर्कल को कम किया जा सकता है।  [ये भी पढ़ें: इन सुपरफूड के सेवन से  होता है मेटाबॉल्जिम बूस्ट]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "