पोषक तत्वों की कमी जिससे आपको एंग्जायटी हो सकती है

Read in English
Nutritional Deficiencies That May Cause Anxiety

एंग्जायटी एक मानसिक समस्या है जो तनाव की वजह से होती है और ये जरूरत से ज्यादा सोचने की वजह से होता है। एंग्जायटी की वजह से आपकी रोजमर्रा की जिंदगी प्रभावित होती है और आप अपनी पसंदीदा गतिविधि में अपनी रूची खो देते हैं। जरूरत से ज्यादा एंग्जायटी होने के पीछे कई कारण होते हैं और उनमें से एक खराब पोषण और अस्वस्थ खाना है। यह एक अच्छी बात है कि विटामिन और मिनरल्स का सेवन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन और पोषण शरीर के ऊर्जा स्तर को प्रभावी ढंग से प्रभावित करता है। यदि आपके शरीर में महत्वपूर्ण विटामिन की कमी है तो यह एंग्जायटी के स्तर को बढ़ा सकता है। ऐसे में आपको विटामिन की कमी के बारे में पता होना चाहिए जो एंग्जायटी का कारण बनता है। इसलिए, आप एंग्जायटी के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए विटामिन का पर्याप्त मात्रा में सेवन कर सकते हैं।  [ये भी पढ़ें: परीक्षा के दौरान होने वाले तनाव को कैसे कम करें]

विटामिन बी -1:
विटामिन-बी उत्पादन के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है और यह एंटी-स्ट्रेस विटामिन के रूप में जानते हैं। विटामिन बी -1 की पर्याप्त मात्रा में सेवन करना मूड में सुधार लाता है। एक व्यक्ति को 1.1 से 1.4 मिलीग्राम विटामिन बी-1 का सेवन करने की आवश्यकता होती है।

विटामिन बी-6:
विटामिन बी-6 सेरोटोनिन और नोरेपाइनफ़्रिन का उत्पादन करने में मदद करता है। ये न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क को संकेत पहुंचाने में मदद करते हैं और मूड को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। एक व्यक्ति को इस विटामिन का सेवन प्रतिदिन 1.3 से 2.0 मिलीग्राम करने की आवश्यकता होती है। ये विटामिन मछली, डेयरी प्रोडक्ट और ब्राउन राइस में पाया जाता है।  [ये भी पढ़ें: चिंता करने से आपके शरीर पर क्या प्रभाव पड़ते हैं]

विटामिन डी:
विटामिन डी की कमी एंग्जायटी के स्तर को बढ़ाता है। विटामिन मानसिक स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रोजाना व्यक्ति को विटामिन के 15 से 20 माइक्रोग्राम का सेवन आवश्यक करना चाहिए। यह विटामिन सूरज की रोशनी से प्राप्त किया जा सकता है और फैटी फिश या दूध से बनें खाद्य पदार्थों से भी प्राप्त किया जा सकता है। इन खाद्य पदार्थों का सेवन आपकी एंग्जायटी को कम करने में मदद करता है।

मिनरल की कमी:
विटामिन और मिनरल मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मिनरल न्यूरोट्रांसमीटर और हार्मोन के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। मिनरल्स की कमी के कारण एंग्जायटी की समस्या होती है। [ये भी पढ़ें: अधिक तनाव होने पर कैसे लें बेहतर नींद]

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "