तनाव कम करने का आसान तरीका है मेडिटेशन

how to reduce stress through meditation

तनाव से ग्रस्त लोग शारीरिक और मानसिक तौर पर आराम पाने के लिये मेडिटेशन का इस्तेमाल करते हैं। मेडिटेशन को अध्यात्मिक अभ्यासों  के साथ जोड़कर भी किया जा सकता है। जब आप अपने शरीर और दिमाग को शांत रखना सीख जाते हैं तो आपका शारीरिक और मानसिक तनाव खुद दूर होने लगता है। इससे आप बेहतर और तरोताजा महसूस करते हैं। साथ ही इससे आप अधिक दर्द सहन करने के लिये खुद को तैयार कर पाते है। आइए जानते हैं कि मेडिटेशन तनाव में राहत दिलाने में कैसे मदद करता है। [ये भी पढ़ें: तनाव को कम करने के लिए असरकारक हैं ये तकनीक]

तनाव क्या है: तनाव एक मानसिक अवस्था है जो बाहरी कारणों (पर्यावरण, मनोवैज्ञानिक, या सामाजिक स्थितियों से) या आंतरिक कारणों (बीमारी, या मेडिकल प्रोसीज़र से) की वजह से हो सकती है। तनाव की वजह से हमारा शरीर ‘फाइट या फ्लाइट'( fight-or-flight) प्रतिक्रिया में आ जाता है। ‘फाइट या फ्लाइट’ एक शारीरिक प्रतिक्रिया है जो किसी व्यक्ति का शरीर गंभीर तनाव, डर या खतरे की अवस्था में देता है। इसे हाइपरअराउजल(अतिपरवलय) भी कहा जाता है। इस मानसिक अवस्था से निकलने के लिए मेडिटेशन या ध्यान एक प्रचलित उपाय है।

मेडिटेशन(ध्यान) कैसे किया जाता है:
how to reduce stress through meditationध्यान लगाने के लिए आपको एक शांत स्थान की जरुरत होती है जहां आप एक आरामदायक मुद्रा में बैठ सकें। इस दौरान अपने मस्तिष्क से सारे विचार निकाल दें। किसी एक चीज पर ध्यान केंद्रित करें और बाकी सभी विषयों को दिमाग से निकालने की कोशिश करें। आप किसी ध्वनि पर भी फोकस कर सकते हैं जैसे- ओम, अपनी सांसों को महसूस करना, कोई मंत्र, या बिल्कुल शांत रहकर भी ध्यान किया जा सकता है। [ये भी पढ़ें: तनाव को कम करने के लिए असरदार हैं ये तकनीक]

किसी भी तरह का मेडिटेशन करते समय एक बात हमेशा याद रखें कि मेडिटेशन के दौरान किसी और चीज के बारे में ना सोचें। हालांकि आप मेडिटेशन कितनी भी देर तक कर सकते हैं लेकिन आपके लिए फायदेमंद होगा कि मेडिटेशन 5 से 20 मिनट के लिए ही करें। गौर करें कि इस दौरान आपका ध्यान भंग ना हो। अधिक समय के लिए किए जाने वाले मेडिटेशन सेशन अधिक फायदेमंद होते हैं लेकिन शुरुआत कम समय से ही करें। मेडिटेशन को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। हालांकि आप इसे कहीं भी कर सकते हैं लेकिन इस प्रक्रिया के दौरान अगर शांति हो तो और भी बेहतर है।

मेडिटेशन कैसे तनाव को करता है दूर:
how to reduce stress through meditationहम दिनभर काम के बीच, ट्रैफिक में फंसते वक्त या और किसी कारणों से हम तनाव में आ सकते हैं जिसकी वजह से हमारा शरीर खुद-बखुद ‘तीव्र तनाव प्रतिक्रिया’ की स्थिति में आ जाता है। कुछ मामलों में जैसे अधिक खतरे की स्थिति में इस प्रकार की शारीरिक प्रतिक्रिया मददगार हो सकती है लेकिन अधिक समय तक इसी अवस्था में होने से आपके शरीर के कई हिस्सों को हानि पहुंच सकती है।

मेडिटेशन की बात करें तो यह तनाव की स्थिति से बिल्कुल विपरीत काम करता है। मेडिटेशन करने से हमारा शरीर रिलैक्स हो जाता है। मेडिटेशन हमारे शरीर को एक शांत स्थिति में लाता है जिसकी मदद से शरीर खुद को रिपेयर कर पाता है और तनाव से होने वाले शारीरिक खतरे से बच जाता है। यह आपके शरीर को तनाव से लंबे समय तक के लिये सुरक्षा प्रदान करता है। कई शोधों के मुताबिक मेडिटेशन के नियमित अभ्यास से आपके शरीर को तनाव से पूरी तरह से मुक्ति मिल सकती है।

मेडिटेशन के अन्य फायदें: ध्यान आपके शरीर में तनाव को कम कर देता है जिससे आप क्रोनिक तनाव के शिकार होने से बच जाते हैं।इसके अलावा मेडिटेशन के अभ्यास से आपको निम्न फायदें होते हैं-

  • मेडिटेशन से आपकी हार्ट रेट और सांस लेने की प्रक्रिया सामान्य रहती है।
  • इससे आपका रक्त संचार नियंत्रण में रहता है।
  • आप ऑक्सीजन अच्छे से ग्रहण कर पाते हैं।
  • पसीना कम आता है।
  • एडर्नल ग्लैंड्स कम कोलेस्ट्रॉल का उत्पादन करती हैं।
  • दिमाग सामान्य गति पर काम करता है।
  • दिमाग बाहरी और आंतरिक गतिविधियों को कंट्रोल कर पाता है और क्रिएटिव तरीके से काम करता है। [ये भी पढ़ें: वक्त से पहले बुढ़ा बना सकता है अत्यधिक तनाव]
उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "