‘मंडे ब्लू’ की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये उपाय

Read in English
how to beat the monday blues

मंडे ब्लू से तात्पर्य सप्ताह के पहले दिन व्यक्ति के मस्तिष्क में आने वाले नकारात्मक भावों से हैं। इस तरह के भाव डिप्रेशन, थकावट और निराशापूर्ण भावों के कारण व्यक्ति के मन में आते हैं। यह मानसिक स्थिति ज्यादातर लोगों के साथ सोमवार को या फिर छुट्टी के बाद उनके कार्य के पहले दिन देखने को मिलती है। जिसके कारण व्यक्ति सप्ताह के शुरूआती दिन में काम का प्रदर्शन प्रभावित होता है। इस तरह की समस्या अगर एक दो बार हो तो इसमें चिंता की बात नहीं है लेकिन जब इस तरह की समस्या हर सप्ताह देखने को मिले तो यह एक चिंता का विषय है।

समस्या को पहचाने:
यदि मंडे ब्लू की समस्या हमेशा बनी रहे तो इस बात पर ध्यान दें कि समस्या किस वजह से हो रही है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिनमे एक सबसे प्रमुख और ज्यादातर लोगों में पाया जाता है वह यह है कि व्यक्ति का अपने काम और नौकरी के प्रति लगाव न होना। अगर आपको भी इस तरह की समस्या है तो नौकरी बदलकर वो काम करें जिसमें आपका मन लगता है।

काम पर आने के लिए सप्ताह के अंत में ही तैयारी कर लें:
सोमवार की सुबह काफी ज्यादा तनाव हो सकता है इसलिए जरुरी है कि आप सोमवार की तैयारी शुक्रवार को ही कर लें, जिससे आपकी छुट्टियां भी अच्छी बीतेगी और साथ ही साथ सोमवार को होने वाला तनाव भी कम होगा। पिछले सप्ताह आपने क्या काम किया था और आगे क्या करना है इस बारे में ध्यान दें, किन जगहों पर आपसे चूक हुई है इस पर ध्यान दें और आने वाले सप्ताह में इस पर सुधार करें। [ये पढ़ें: ऑफिस में काम के बोझ से होने वाले तनाव को कैसे कम करें]

आने वाले सप्ताह में किस बात को लेकर आप बहुत ज्यादा उत्साहित है इसकी सूची बनाये:
हम सभी सप्ताह में किसी न किसी बात को लेकर बहुत ज्यादा उत्साहित होते हैं। उन बातों को याद करें और उस पर विचार करें, जिससे आपके भीतर का तनाव कम होगा और कार्य पर आपका मन लगेगा। रविवार की शाम को इन कार्यों की सूची तैयार करें। वह कार्य कोई भी हो सकता है, जैसे -किसी खास व्यक्ति से मिलना, कहीं घूमने जाना, खरीदारी करना आदि।

वीकेंड पर अपने काम से दूरी बनाये रखें:
यदि संभव हो तो अपने सप्ताह के अंत में जब आपकी छुट्टी होती है, उन दिनों में खुद को काम से बिल्कुल दूर रखें। किसी भी प्रकार के ई-मेल, मैसेज आदि को ना पढ़ें। जब भी आप शुक्रवार को अपने दफ्तर से या कार्यस्थल से घर के लिए निकलते है, दफ्तर की सभी चिंताओं और को वहीं छोड़ दें। ऐसा करने से आपके भीतर छुट्टी के समय में कार्य का तनाव कम रहेगा और सोमवार को भी काम करने में दिक्कत नहीं होगा।

रविवार की रात पूरी नींद लें:
कई बार बहुत से लोग रविवार को देर रात तक जागते हैं, जिसके कारण सोमवार की सुबह तक नींद पूरी नहीं हो पाती है। जिसकी वजह से आपको चिड़चिडपन होता है, इसलिए ऑफिस के पहले दिन अच्छी नींद बेहद जरूरी है। कोशिश करें कि सोमवार की सुबह आप नियमित समय से थोड़ा जल्दी उठे और दफ्तर जाते समय होने वाली हड़बड़ी से बचें। [ये भी पढ़ें:  कैसे तनाव कर सकता है आपकी वर्क परफॉर्मेंस को प्रभावित]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "