अत्यधिक तनाव से उत्पन्न हो सकती हैं ये स्वास्थ्य समस्याएं

health problem caused by excess stress

अत्यधिक तनाव किसी भी व्यक्ति के शारीरिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। जरुरत से ज्यादा तनाव की स्थिति में रहना आपको कई तरह की स्वास्थ्य परेशानियों में डाल देता है। तनाव ना केवल आपको भावनात्मक तौर पर प्रभावित करता है बल्कि इसकी वजह से आप कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं। अध्ययनों में ये पाया गया है कि कई बीमारियाें का पीछे के कारण तनाव होता है। किसी इंसान के शरीर में पहले से मौजूद समस्याएं जैसे- मोटापा, दिल की बीमारी, मधुमेह या अवसाद आदि तनाव की वजह से गंभीर अवस्था में पहुंच सकती हैं। आइए जानते हैं तनाव की वजह से किन बीमारियों के होने की संभावनाएं होती हैं। [ये भी पढ़ें: कैसे तनाव कर सकता है आपकी वर्क परफॉर्मेंस को प्रभावित]

तनाव से सम्बंधित स्वास्थ्य समस्याएं:

हृदय रोग:
health problem caused by excess stress शोधकर्ताओं के अनुसार जो लोग तनाव से ग्रसित होते हैं उन्हें उच्च रक्तदाब और दिल की बीमारी होने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं। तनाव की वजह से आप जिस स्थिति में होते हैं उसमें सामान्य तौर पर दिल की धड़कन बढ़ जाती है और रक्त संचार तेज गति से होने लगता है। इसकी वजह से कॉलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है। इसके साथ ही तनाव के कारण लोग धूम्रपान का सेवन करना शुरू कर देते हैं और मोटापे के शिकार हो जाते हैं। डॉक्टर्स का मानना है कि जो लोग अधिक तनाव में होते हैं उनमें कार्डिएक प्रॉब्लम्स और हार्ट अटैक आने की संभावना ज्यादा होती है।

मधुमेह: तनाव की वजह से मधुमेह के रोगियों को दो प्रकार से नुकसान हो सकता है। पहला कि ये रोगी के बुरे बर्ताव को बढ़ाता है जैसे शराब का सेवन करना। साथ ही इसकी वजह से टाइप-2 के मरीजों में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ सकती है।

सिर दर्द या माइग्रेन: तनाव सिर दर्द और माइग्रेन का सबसे प्रमुख ट्रिगर है। यह आपके सिरदर्द की तीव्रता और माइग्रेन की गंभीरता को बढ़ा सकता है। [ये भी पढ़ें: तनाव की समस्या एक जैसी नहीं होती है इनके भी कई प्रकार होते हैं]

अस्थमा:
कई शोध में यह बात सामने आई है कि तनाव की वजह से अस्थमा से ग्रसित लोगों की हालत अधिक खराब हो सकती है। कुछ शोधों में ऐसा पाया गया है कि जिन माता-पिता को क्रोनिक स्ट्रेस की समस्या होती है उनके बच्चों को अस्थमा होने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं। साथ ही जो माताएं गर्भावस्था में धूम्रपान करती है उनके बच्चें को अस्थमा होने की संभावना काफी अधिक होती हैं और ये धूम्रपान की आदत तनाव की वजह से हो सकती है।

डिप्रेशन:
health problem caused by excess stress इसमें कोई शक नहीं है कि क्रोनिक तनाव की वजह से डिप्रेशन और चिंता का बहुत गहरा सम्बंध है। हाल ही में हुए अध्ययन में पाया गया है कि वो लोग जो काम की वजह से होने वाले तनाव से ग्रसित थे उनके डिप्रेस होने की संभावना 80 प्रतिशत ज्यादा थी।

ग्रैस्ट्रोइंटेस्टिनल समस्याएं: हालांकि तनाव की वजह से अल्सर नहीं होता है लेकिन यह उनकी स्थिति को और खराब कर सकता है। कई तरह की ग्रैस्ट्रोइंटेस्टिनल समस्याओं को बढ़ाने में तनाव एक प्रमुख कारक होता है।

तेज गति से बुढ़ापा आना: इस बात को साबित किया गया है कि तनाव आपकी उम्र बढ़ने की गति को प्रभावित करता है। शोध बताते हैं कि तनाव की वजह से इंसान 9 से 17 साल अधिक बूढ़ा लगने लगता है।

मोटापा:
पैरों या जांघों पर होने वाले फैट की तुलना में पेट पर होने वाला फैट सेहत को अधिक नुकसान पहुंचाता है और तनाव के कारण बढ़ने वाला फैट आपके पेट पर ही इकट्ठा होता है। तनाव की वजह से कोर्टिसोल हार्मोन बढ़ने लगते है और जिनकी वजह से आपके शरीर में फैट भी बढ़ता है जो कि आपके पेट पर एकत्र होने लगता है। [ये भी पढ़ें: जानें कैसे तनाव और डिप्रेशन एक दुसरे जुड़े के होने बावजूद भी अलग हैं]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "