कुण्डलिनी चक्रों की स्थिति सही रखना क्यों जरुरी है

why it is important to align your chakras

photo credit: chopra.com

आध्यात्मिकता के अनुसार हर व्यक्ति में सात चक्र होते हैं, जो सिर से रीढ़ की हड्डी तक सीध में फैले होते हैं। इन चक्रों का संबंध आपके स्वास्थ्य और आध्यात्मिकता से होता है। अगर आपके कुण्डलिनी चक्रों की स्थिति सही नहीं होती, तो आपको हमेशा ऊर्जा की कमी, अवसाद और अस्वस्थता महसूस होती है। मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए इन चक्रों की स्थिति ऊपर से नीचे तक सीध में होती है, जिससे आपके हार्मोन, शारीरिक केमिकल प्रक्रिया और सूक्ष्मजीवों के बीच संतुलन पैदा होता है। [ये भी पढ़ें: 40 की उम्र के बाद कैसे जाएं अध्यात्म के करीब]

सातों चक्रों का नाम व उनसे संबंधित शारीरिक अंग:
मूलाधार      – घुटना, एड़ियां, पैर, कूल्हे
स्वाधिस्तना  – पीठ का निचला हिस्सा, बड़ी आंत, जननांग, मूत्राशय
मनिपुरा       – लिवर, पित्ताशय की थैली, गुर्दे और छोटी आंत
अनाहत       – दिल, फेफड़े, बाहें, स्तन, ऊपरी पीठ, कंधें, पसलियां
विशुद्धा        – गला, गर्दन, जबड़े, दांत, कंधें, कान, मुंह
अजन          – आंखें, सिर, मस्तिष्क, नाक, साइनस, माथा
सहस्रार       – सिर

कुण्डलिनी चक्रों के सीध में होने से क्या फायदे होते हैं:
1.संपूर्ण संतुलन के लिए: कुण्डलिनी चक्रों के सही स्थिति में होने से आपके शारीरिक स्वास्थ्य, आध्यात्मिकता और भावनात्मकता में संतुलन पैदा होता है। जिस वजह से आपको जीवन में संपूर्ण संतुलन मिलता है। इसलिए हर दिन थोड़ा समय इन चक्रों की स्थिति को सुधारने के लिए देना आपके शरीर का संपूर्ण विकास करने में मदद करता है। [ये भी पढ़ें: अध्यात्मिक जागृति के कारण रात को 3 से 5 बजे के बीच खुल सकती हैं आपकी नींद]

2.आत्म-जागरूकता बढ़ाने के लिए: कुण्डलिनी चक्रों की स्थिति आपकी आत्म-जागरूकता को भी प्रभावित करती है। इनके सही स्थिति में होने से आपकी अपने कमजोर क्षेत्रों के बारे में ध्यान लगाकर उन्हें बेहतर बनाने की क्षमता का विकास होता है।

3.ध्यान लगाने की क्षमता बढ़ाने के लिए: हर कोई योग से मिलने वाले फायदों के बारे में जानता होगा। लेकिन इन चक्रों की स्थिति सही होने से आपके ध्यान लगाने की क्षमता बढ़ती है और आपको मानसिक और शारीरिक फायदे प्राप्त होते हैं। साथ ही यह आपको सचेतन की अवस्था में लाता है, जिससे आप अपने अच्छे-बुरे हालातों के बारे में भली-भांति सोच पाते हैं। [ये भी पढ़ें: कर्म के ये नियम बदल देंगे आपका जीवन]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "