अध्यात्मिक होने के लिये जरुरी है ख़ुद से रुबरु होना

ways to get connected with yourself

आज के समय में अपने आप से जुड़ना बहुत ही मुश्किल काम है। हम सोशल मीडिया, मोबाइल फ़ोन और न जानें कितनी चीजों के जरिए पूरी दुनिया के साथ जुड़ चुके हैं मगर जब भी खुद से जुड़ने की बात आती है, तो हमें खुद से जुड़ने में बहुत मुश्किलें होती हैं। आज की इस व्यस्त जिंदगी में हमें वक़्त नहीं मिलता कि कुछ समय निकालकर हम खुद के बारे में सोच सकें। ऐसे स्थिति में खुद को खुद से जोड़ने में आध्यात्म अहम भूमिका निभाता है। अध्यात्म हमें खुद से जुड़ने के लिए कहता है क्योंकि जब तक हम खुद से नही जुड़ेगें तब तक हम अध्यात्म के करीब नही जा सकते हैं। अध्यात्म के करीब जाना हमें मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है और आपके दिमाग को शांत रखता है। जिसकी वजह से हम न ही तनाव महसूस करते हैं और न ही अपने काम को लेकर परेशान होते हैं। चलिए जानते है कि कैसे आप खुद के और करीब आ सकते हैं। [ये भी पढ़ें: अध्यात्म का सहारा लेकर चढ़ें सफलता की सीढ़ियां

किसी चीज से उम्मीद न बांधे: कोई भी व्यक्ति तब ज्यादा दुखी होता है जब वह किसी व्यक्ति, वस्तु आदि से बहुत अधिक उम्मीद बांध ले और उसकी वह उम्मीद पूरी न हो पाए। इसलिए जो भी काम करें तो उसमें मिलने वाले परिणाम को ध्यान में रख कर करें। आप खुद से मन में यह ठान लें कि आप जो भी करेंगे उसमें सफल होंगे। इसी तरह से आप आगे बढ़ेंगे और अपने आप के करीब भी आएगें।

सकारात्मक सोच कायम करें:
ways to get connected with yourselfहमारे तनाव और डिप्रेशन का सबसे बड़ा कारण है हमारी नकारात्मक सोच। इसी सोच कि वजह से कई लोग मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं रह पाते हैं। इसलिए हमेशा सकारात्मक सोचने की कोशिश करें। कुछ भी गलत होता है तो उसके लिए खुद को दोष ना दें। आप जितना ज्यादा सकारात्मक होंगे उतना ही अपने आप से जुड़ पायेंगे और अध्यात्म की ओर बढ़ पायेंगे। सकारात्मक सोच के साथ अपने आपको हमेशा प्रोत्साहित भी करें [ये भी पढ़ें : उपाय जो आपके जीवन में लाएंगे अध्यात्मिकता का प्रकाश]

आज में जीने की कोशिश करें: हम अक्सर आज के बारें में न सोच कर अपने आने वाले कल या बीते हुए कल के बारे ज्यादा सोचते हैं। हम जब भी ऐसा करते हैं तो अपने वर्तमान जीवन को ठीक से व्यतीत नहीं कर पाते हैं। साथ ही आस-पास क्या चल रहा है उसे महसूस नहीं कर पाते हैं। इसलिए जरुरी है कि हम अपने आज में रहें। यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होगा। आज में जीने से आप खुद के तो करीब रहेंगे और उससे ज्यादा अपने भीतर की सभी परेशानियों को भी ठीक से सुलझा पायेंगे।

खुल कर जीना सीखें:
ways to get connected with yourselfकई बार हम बस खुद तक ही सीमित रह जाते हैं जो कि हमारे लिए कई बार नुकसानदेह साबित हो जाता है। जब भी आप खुद तक सीमित रहने की सोचते हैं तो उसके आगे आपको बहुत सी परेशानियां होने लगती है जो मानसिक स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी सही नहीं हैं। ऐसा करने से आप अपने भीतर एक नकारात्मक सोच को पनपने देते हैं और साथ ही आप अध्यात्मिकता की राह से कोसों दूर चले जाते हैं।

कुछ दिन अपना मूल्यांकन करें: अपने आप का मूल्यांकन करने का मतलब है खुद की गलितयों को नोट करें, देखें कि आपने किसी व्यक्ति से गलत बात तो नहीं कहीं या फिर किसी को दुखी तो नहीं किया। साथ ही यह देखें कि आप किस समय क्या करते है। इससे हमारा कहने का तात्पर्य है कि खुद पर कुछ दिनों तक नजर रखें और जब भी आप अपनी गलती और अपनी कमियों को पहचानें तो उस पर काम करें और अपने आप में सुधार लाने की कोशिश करें। इससे आप खुद को जानने लगेगें। [ये भी पढ़ें : बिना धार्मिक हुए भी आप हो सकते है अध्यात्म के करीब]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "