अध्यात्म के जरिए दूर करें अपना तनाव

spirituality can help you to relieve stress

आप कई तरीकों के जरिए खुद को अपने अंतर मन से जोड़ सकते हैं और तनाव को कम कर सकते हैं लेकिन अध्यात्म ऐसा अभ्यास है जो आपको तनाव से मुक्त करने के साथ-साथ बेहतर स्वास्थ्य और खुशहाल जीवन का आनंद देता है। अनुसंधान से पता चलता है कि जो लोग धार्मिक या अध्यात्मिक होते हैं वो तनाव से अधिक राहत प्राप्त कर पाते हैं। कुछ अध्यात्मिक तरीकों के जरिए आप भी तनाव में राहत पा सकते हैं आइए जानते हैं कि कौन से हैं वो तरीके। [ये भी पढ़ें: अध्यात्म से जुड़ कर आप खुद को बेहतर जान पाएंगे]

प्रार्थना करने का आदत बनाएं: प्रार्थना करना आपको अध्यात्मिकता से जोड़ता है साथ ही जब आप कई बार प्रार्थना करते हैं तो आप खुद को प्राकृतिक उर्जा या कहें कि ईश्वर से अधिक जुड़ा महसूस करते हैं। इसके परिणामस्वरुप आप शांत, सुरक्षित और अधिक ग्राउंडेड महसूस करते हैं और आपका शरीर तनाव के खिलाफ लड़ पाता हैं। यह आपको ध्यान करने के समान लाभ पहुंचाता है, जैसे ब्लड प्रेशर कम करता है, इम्यूनिटी बढ़ाता है।

आभार व्यक्त करें: आजकल लोग एक-दूसरे का आभार व्यक्त करना जैसे भूल ही गए हैं लेकिन ऐसा करके आप खुद को तनाव मुक्त रख सकते हैं। भगवान के प्रति आभार व्यक्त करने से आपको बेहतर स्वास्थ्य परिणाम देखने को मिलते हैं साथ ही तनाव को भी कम किया जा सकता है। सोने से पहले या खाना खाने के बाद आप ईश्वर को आभार व्यक्त करते हैं तो आपका अध्यात्म से रिश्ता मजबूत होता है और आपका फोकस बढ़ता साथ ही तनाव को भी कम करने में मदद मिलती है। [ये भी पढ़ें: उपाय जिनसे जीवन में होगा सकारात्मक ऊर्जा का संचार]

आशावादी बनें: ‘जब आपके लिए एक रास्ता बंद हो जाता है, तो दूसरा खुल जाता है’ ये पंक्ति आपने सुनी ही होगी। अब समय है कि आप इस पर विश्वास करना भी शुरु कर दें। अध्यात्मिकता आपको खुद से जोड़ती है और जब आप खुद को बेहतर जान पाते हैं तो अपनी क्षमताओं को जान पाते हैं। इसके कारण आपकी खुद से उम्मीदें बढ़ जाती है और आप आशावादी बनते हैं। साथ ही आप अपने जीवन में चल रही उथल-पुथल को भी संभालने में सक्षम होते हैं जिससे तनाव कम होता है।

तनाव के दौरान आईं चुनौतियों से सीखें: अध्यात्म से जुड़े लोगों के अंदर सकारात्मक उर्जा का संचार होता है जिससे वो लोग तनाव के दौरान आ रही कठिन परिस्थितियों से सीख लेकर अपनी मजबूती की परीक्षा लेते हैं। किसी भी तनावपूर्ण घटना को चुनौती के रुप में देखते हुए आपको कम खतरा महसूस होता है जिससे आप उससे जल्दी बाहर निकल पाते हैं। [ये भी पढ़ें: वृद्धावस्था में बनाएं अध्यात्म को अपना साथी]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "