बिना धार्मिक हुए भी आप हो सकते है अध्यात्म के करीब

एक ऊर्जा जो पूरे ब्रह्माण्ड को नियंत्रित करती है। हम सभी इस ऊर्जा से जुड़ें हैं। जब हम इस ऊर्जा को बेहद करीब से महसूस करते हैं तब हम अध्यात्मिकता की तरफ बढ़ते हैं। अध्यात्मिकता के लिए या फिर अंतरात्मा को करीब से महसूस करने के लिए ये जरुरी नहीं है कि हम धार्मिक हों या फिर हम ज्यादा समय पूजा पाठ करें या माला जपते रहें। अध्यात्मिकता का धर्म से संबन्ध है लेकिन ये जरुरी नहीं है कि अध्यात्मिक होने के लिए हम धार्मिक हों। धर्म से इतर रहकर भी हम अध्यात्मिक हो सकते हैं और उसके लिए बस हमें निम्नलिखित बातों का अनुसरण करना होगा। [ये भी पढ़ें: अध्यात्मिक होने के लिये जरुरी है खुुद से रुबरु होना]

1. अपने आस-पास के लोगों से प्यार करें: कई बार ऐसा होता है कि हम अपने परिवार को, अपने दोस्तों को प्यार करना भूल जाते हैं। हम अपनी जिंदगी में इतने मशगूल हो जाते हैं कि दूसरों के लिए वक्त नहीं निकाल पाते। अपने परिवार वालों, अपने दोस्तों के साथ समय बिताने से दिमाग में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। ये सकारात्मक ऊर्जा अध्यात्म के लिए बेहद जरुरी होती है।

2. आस-पास के लोगों के प्रति सहनशील बनें: उपरोक्त कथन से तात्पर्य है कि हमें उन लोगों के साथ भी नम्रता से पेश आना चाहिए जो हमें पसंद नहीं होते या फिर जिन्होंने हमारा कभी कोई नुकसान किया हो। आमतौर पर ऐसा होता है कि हमारे आस-पास कोई न कोई ऐसा व्यक्ति होता है जिसे हम नापसंद करते हैं। वो रोजाना आपको काम करने में किसी ना किसी तरीके से परेशान करते हैं। ऐसे लोगों से भी जहां तक संभव हो प्यार से ही पेश आएं। ऐसा करने से आपके मन को शांति तो मिलेगी ही साथ ही साथ इन लोगों में भी सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा। ऐसा करने से आप अध्यात्म के करीब आ जाएंगें। [ये भी पढ़ें: उपाय जो आपके जीवन में लाएंगे आध्यात्मिकता का प्रकाश]

3. खुद के बेहतर रूप के करीब आएं:
how to be spiritual without being religiousआपका बेहतर प्रारूप वो व्यक्ति है जिसके जैसा बनना हमेशा से आपका उद्देश्य रहा है। छोटे-छोटे लक्ष्य निर्धारित करें और उन्हें पूरे करें ऐसा करना आपको बेहतर बना सकता है। मेट्रो में या बसों में बैठें तो ध्यान खुद पर केन्द्रित करें। ऐसा करने से आप बाहर के शोर से बच सकेंगे। ऐसा करना आपको अपने आप से जोड़ने में मदद करेगा। इससे आपकी एकाग्रता बढ़ेगी और आप खुद को आध्यात्म से ज्यादा जुड़ा महसूस करेंगे। खुद को बेहतर बनाने की लगातार कोशिश करते रहें।

4. वो काम करें जो आपको पसंद हैं:
how to be spiritual without being religiousवो काम करें जिनको करने में आपको ज्यादा आनंद आता हो, जिसे करके आप खुश होते हैं। उदाहरण के लिए अगर आपको पेंटिंग पसंद है तो आप खाली समय में पेटिंग करें। ऐसा करने से आप खुद को अपनी अंतरात्मा के करीब पाएंगे।

5. निःस्वार्थ भावना से दूसरो की मदद करें: निःस्वार्थ भावना से दूसरों की मदद करना आदमी को खुद से जोड़ता है। ऐसा करने से आंतरिक ख़ुशी मिलती है और शरीर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। उदाहरण के लिए कभी किसी को कोई तोहफा देकर देखें, उनके चेहरे पर आई मुस्कुराहट आपको लम्बे समय तक खुशी का एहसास दिलाएगी। ये छोटी-छोटी चीजें आपको काफी हद तक अंतरात्मा से जोड़ कर रखेंगी। ऐसा करने से आप खुद को अध्यात्म के करीब पाएंगे।

6. दिन में कम से कम 15 मिनट के लिए ध्यान लगाएं:
how to be spiritual without being religiousरोजाना 15 मिनट के लिए मेडिटेशन करें। ऐसा करना आपको खुद से जोड़ने में मदद करता है। मेडिटेशन ना भी करें तो कम से कम 15 मिनट के लिए रोजाना एक ही समय पर खाली बैठें और कुछ नहीं सोचें। ऐसा करने से ब्रेनवेव्स में बदलाव आते हैं। [ये भी पढ़ें: आध्यात्मिक होने के लिए जरुरी है खुुद से रुबरु होना]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "