Navaratri Special: नवरात्रि के दौरान व्रत रखना कैसे अनुशासन और नियंत्रण सिखाता है

Read in English
Navaratri teach with self-discipline and control

नवरात्रि आपको आत्म-अनुशासन और नियंत्रण सीखने में मदद करते हैं।

Navaratri Special: नवरात्रि अनुष्ठानों और परंपरा से भरपूर त्योहार है। नवरात्रि के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक उपवास की परंपरा है। ज्यादातर लोग केवल नौ दिनों के इस उपवास को परंपराओं के रूप में ही देखते हैं। हालांकि, नवरात्रि में इससे कहीं ज्यादा समाया हुआ है। नवरात्रि के दौरान उपवास रखने का मतलब केवल एक निश्चित तरीके से खाना या अपनी जीवनशैली को बदलना नहीं है। यह आत्म-अनुशासन और नियंत्रण सीखने से भी जुड़ा है। नवरात्रि के दौरान, हमारा शरीर इच्छाओं से परे सोचने में समर्थ होता है और आत्म-जागरूकता व चेतना पाता है। आइए जानते हैं कि नवरात्रि का त्योहार हमें कैसे आत्म-नियंत्रण और अनुशासन सिखाता है। [ये भी पढ़ें: व्रत के दौरान भूख को कैसे काबू करें]

Navaratri Special: नवरात्रि के त्योहार से हमें आत्म-नियंत्रण और अनुशासन कैसे सीखने को मिलता है

  • बुरी आदतें दूर करना
  • इच्छा-शक्ति को बढ़ाता है
  • नियत्रंण सिखाता है
  • अध्यात्मिक जागरुकता
  • अनुशासन और स्‍व-सहायता

बुरी आदतें दूर करना
जब आप नवरात्रि के दौरान उपवास करते हैं तो आप धूम्रपान, शराब का सेवन, अस्वस्थ भोजन करना जैसी बहुत सारी बुरी आदतों को छोड़ देते हैं। नतीजतन, शरीर किसी भी बुरी आदत का शिकार हुए बिना जीवित रहना सिखता है। इसके लिये आत्म-नियंत्रण और सकारात्मक दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है।

इच्छा-शक्ति को बढ़ाता है
जीवन में आपको कुछ भी करने के लिये इच्छाशक्ति की जरुरत होती है। जब आप नवरात्रि के दौरान उपवास करते हैं तो आप निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इच्छाशक्ति विकसित करने के लिए अपने दिमाग की मदद करते हैं। उपवास का मतलब है कि आप कई चीजें छोड़ रहे हैं जिनका उपयोग आप करते थे। ऐसा करके आप एक मजबूत इच्छाशक्ति विकसित करते हैं।

नियत्रंण सिखाता है

navratri helps you learn self-discipline and control
नवरात्रि के दौरान आप आत्म-नियंत्रण सीखते हैं।

प्रलोभन कई नकारात्मक आदतों का मुख्य कारण है। जब आप उपवास कर रहे होते हैं तो आप इसके खिलाफ लड़ना सीखते हैं। यहां तक कि कुछ खाद्य पदार्थों को खाने की आदत को छोड़ने के लिये भी बहुत अधिक आत्म-नियंत्रण और समर्पण की आवश्यकता होती है। नवरात्रि के दौरान उपवास आपको सशक्त महसूस कराता है कि आप प्रलोभन का विरोध करने में सक्षम हैं।

अध्यात्मिक जागरुकता
नवरात्रि के दौरान उपवास करते वक्त, आप अपना खुद को अनुशासित करते हैं और अपने चुने हुए रास्ते पर रहने के लिए खुद की सहायता करते हैं। नवरात्रि के उपवास का सतह पर दिखने वाली चीज़ों की तुलना में अधिक गहरा अर्थ है। आत्म-अनुशासन और आत्म-सहायता की दिशा में यह पहला कदम है।

अनुशासन और स्‍व-सहायता
उपवास के दौरान आप स्वाद की भावना और भोजन के प्रलोभन को दूर करना सीखते हैं और जीवन के उच्च लक्ष्य की ओर बढ़ते हैं जो कि असल में आध्यात्मिक जागरूकता है। नवरात्रि उत्सव आपको अपने आध्यात्मिक पक्ष के करीब लाता है।

[जरुर पढ़ें: व्रत के दौरान डिनर में क्या आहार खाएं]

ये अनुशासन और आत्म नियंत्रण से जुड़ी कुछ चीजें हैं जो नवरात्रि का उपवास आपको सिखाता है। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "