Luck vs Hard Work: सफल होने के लिए किस्मत या कठिन परिश्रम किसकी जरुरत होती है

Read in English
luck vs hard work

Success in life: जीवन में सफल बनने के लिए कठिन परिश्रम या किस्मत एक को चुनें।

सफलता प्राप्त करना हर किसी का लक्ष्य होता है। जब भी कोई इंसान सफल बनने की कोशिश करता है तो उसके सामने एक सवाल जरुरी आता है कि उन्हें किस्मत या कठिन परिश्रम किसकी ज्यादा जरुरत है। कुछ लोगों को बिना किस्मत की वजह से बिना कुछ करे ही सफलता मिल जाती है। इस तरह के लोगों को जीवन में कठिन परिश्रम की अहमियस समझ नहीं आती है। जीवन में कठिन परिश्रम के महत्व को भी जरुर समझें। किस्मत हर बार आपका साथ दे ऐसा जरुरी नहीं होता है लेकिन कठिन परिश्रम करके आप जीवन में कुछ भी पा सकते हैं। तो आइए आपको बताते हैं कि सफल बनने के लिए किस्मत या कठिन परिश्रम आपको किसकी जरुरत होती है। [ये भी पढ़ें: Successful People routine: सफल लोगों की दिनचर्या से सीखें कुछ चीजें]

Luck vs Hard Work: जीवन में किस्मत या कठिन परिश्रम क्या जरुरी है

किस्मत हमेशा साथ नहीं देती है
कठिन परिश्रम से आपको गर्व महसूस होता है
किस्मत ज्यादा समय तक साथ नहीं रहती है
कठिन परिश्रम लोगों को प्रोत्साहित करता है
किस्मत खतरे से कम नहीं है

किस्मत हमेशा साथ नहीं देती है: जीवन में अगले पल क्या हो जाए यह कोई नहीं जान सकता है। तो अगर आप इस सोच में बैठे रहते हैं कि किस्मत कोई जादू करके आपके काम को पूरा कर देगी तो यह गलत है। कठिन परिश्रम से बेशक आपको काम करने में ज्यादा समय लगे पर यह हमेशा आपका साथ देता है।

कठिन परिश्रम से आपको गर्व महसूस होता है:

Hard work makes you feel proud
Hard Work: कठिन परिश्रम करने से आपको खुशी होती है।

जब आप जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम करते हैं तो आपको अपने प्रयासों पर गर्व होता है। अगर आपकी सफलता किस्मत की वजह से होती है तो आपको प्रयास करने की जरुरत नहीं पड़ती है। कठिन परिश्रम करके सफल बनने से खुशी भी मिलती है।

किस्मत ज्यादा समय तक साथ नहीं रहती है: अगर किस्मत ने आपका एक बार साथ दे दिया है तो जरुरी नहीं कि वह हर बार आपका साथ दे। इसलिए अपनी किस्मत पर निर्भर ना हो। किस्मत भले ही आपका साथ ना दे पर कठिन परिश्रम कभी आपका साथ नहीं छोड़ता है।

कठिन परिश्रम लोगों को प्रोत्साहित करता है: जब किसी व्यक्ति को कठिन परिश्रम की वजह से सफलता मिलती है तो आप दूसरों के लिए एक उदाहरण बन जाते हैं। किस्मत की वजह से कभी आपके दिमाग में सकारात्मक विचार नहीं आते हैं। कठिन परिश्रम से लोग मोटिवेटिड होते हैं वहीं किस्मत की वजह से जलन होने लगती है।

किस्मत खतरे से कम नहीं है: अगर आप यह सोचकर बैठे हैं कि किस्मत आपको बचा लेगी तो यह किसी खतरे से कम नहीं होता है। कठिन परिश्रण करके आप धीरे-धीरे सफलता की तरफ बढ़ते हैं जिसमें असफल होने की संभावना ना के बराबर होती है।

[जरुर पढ़ें: Achieving the success in life: क्या आप सफलता के मौकों को बर्बाद कर रहे हैं]

कठिन परिश्रम और किस्मत के भरोसे सफल होने में फर्क होता है। इस आर्टिकल को इंग्लिश(English)में भी पढ़ें।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "