माइंडफुल एजिंग क्या होती है और आप इसे कैसे कर सकते हैं

Read in English
what is mindful aging and how can you achieve it

माइंडफुल एजिंग एक प्रक्रिया है, जिसके अंतर्गत उम्र के अंतिम पड़ाव पर आने के बाद अपने दिमाग को तनाव, चिंता और अवसाद जैसी समस्याओं से लड़ने के लिए तैयार किया जाता है। माइंडफुल एजिंग का शाब्दिक अर्थ होता है- अपने दिमाग को उम्र के अनुसार तैयार करना। जब आप माइंडफुल एजिंग करते हैं, तो आप अपने दिमाग को विभिन्न अनुभवों और चुनौतियों से उबरने के लिए तैयार करते हैं। यह आपके जीवन और मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। आइए जानते हैं, कि माइंडफुल एजिंग कैसे की जा सकती है। [ये भी पढ़ें: विचार जो हमारे मानसिक स्वास्थ्य के विकास के लिए हो सकते हैं खतरनाक]

1.बुरे अनुभवों को भूलना सीखें: हम सभी की जिंदगी में बुरी यादें, धोखा, जीवन से किसी के जाने का दुख जैसे बुरे अनुभव होते हैं। लेकिन इन बुरे अनुभवों के बारे में सोचते रहने से हमें कुछ हासिल नहीं होता। क्योंकि यही बुरे अनुभव और दुख हमें कुछ भी नया करने से रोकते हैं, जिससे हमारा जीवन ठहर सा जाता है। इसलिए माइंडफुल एजिंग का यह प्रमुख पड़ाव है, जिसे सीखना बहुत जरुरी है।

2.अपने शरीर की इज्जत करें: जब आप दिमागी रूप से परिपक्व होने लगते हैं, तो आप अपने शरीर और लुक्स को लेकर इज्जत का भाव रखते हैं। उम्र बढ़ने के साथ आपके शरीर में कई शारीरिक बदलाव होते हैं, जिन्हें लेकर हम दुखी होने लगते हैं। माइंडफुल एजिंग हमें इसी दुख से बाहर निकालने में मदद करती है। [ये भी पढ़ें: अपनी भावनाओं को कैसे काबू में रखें]

3.रचनात्मक बनें: माइंडफुल एजिंग का एक घटक रचनात्मक बनना भी है। आप अपने दिमाग को पेंटिंग, कविता लिखना जैसी रचनात्मक चीजों का अभ्यास करवाइए। इससे आपकी शख्सियत भी निखरती है और आपमें किसी हुनर का भी विकास होता है। यह तरीका आपको किसी भी नकारात्मक परिस्थिति में भी सकारात्मक बनाए रखने में मदद करेगा।

4.उम्र बढ़ने की सच्चाई को अपनाएं: उम्र बढ़ने के साथ हमें कई अच्छे-बुरे अनुभवों से गुजरना पड़ता है। साथ ही किसी प्रिय की मृत्यु या अपनी मृत्यु को लेकर हम काफी डरे रहने लगते हैं। यह आपके दिमाग को हमेशा परेशान रखता है। इसलिए जो बात आपके हाथ में नहीं है, उससे घबराने की बजाए आप उस अवस्था का आनंद लें। क्योंकि मृत्यु जैसी प्राकृतिक चीजें होकर ही रहेंगी, लेकिन इनकी वजह से आप अपनी जिंदगी का आनंद लेना बंद मत कीजिए। [ये भी पढ़ें: अपनी भावनाएं व्यक्त नहीं कर पाते हैं तो हो सकती है फ्लैट इफेक्ट की समस्या]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "