Bipolar Disorder: बाइपोलर डिसऑर्डर को ठीक करने के प्राकृतिक तरीके

Ways-To-Treat-Bipolar-Disorder-Naturally

बाइपोलर डिसऑर्डर में व्यक्ति मेनिया की अवस्था से डिप्रेशन में आ जाता है।

Treating Bipolar Disorder: बाइपोलर डिसऑर्डर को मैनिक डिप्रेशन के नाम से भी जाना जाता है। यह एक मानसिक विकार है जिसके दौरान व्यक्ति को बहुत अधिक मूड स्विंग्स होते हैं, साथ ही उनकी नींद, उर्जा, व्यवहार और सोचने की क्षमता प्रभावित होती है। बाइपोलर डिसर्ऑर्डर से ग्रस्त लोगों का मानना है कि मेडिकेशन के साथ अन्य प्राकृतिक उपचार इसके लक्षणों से राहत पाने में मदद करते हैं। हालांकि बाइपोलर डिसऑर्डर के इलाज में प्राकृतिक उपायों की प्रभावशीलता पर अधिक शोध की आवश्यकता है। बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त लोगों को मेडिकेशन के साथ कुछ प्राकृतिक तरीकों को भी अपनाना चाहिए। आइए जानते हैं बाइपोलर डिसऑर्डर को ठीक करने के प्राकृतिक तरीके। [ये भी पढ़ें: डिप्रेशन से हो सकता है बाइपोलर डिसऑर्डर]

Treating Bipolar Disorder: बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षणों को कम करने के लिये प्राकृतिक तरीके

  • एक्सरसाइज
  • स्वस्थ दिनचर्या
  • अपनी रुचियों को जिएं
  • लोगों से जुड़ें
  • पर्याप्त नींद लें

एक्सरसाइज

what are the natural ways to treat bipolar disorder
बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षणों को कम करने में एक्सरसाइज फायदेमंद है।

खुद को सक्रिय रखना आपको बाइपोलर डिसऑर्डर में मदद कर सकता है। इसलिए नियमित एक्सरसाइज करें। लो-इंटेसिटी और मोडरेट एक्सरसाइज आपके लिये लाभकारी होंगी। इससे एंडोर्फिन केमिकल रिलीज होता है जो आपको अच्छा महसूस करता है।

स्वस्थ दिनचर्या
जब आप डिप्रेशन में होते हैं या मूड स्विंग्स के कारण भी आप बुरी आदते अपनाने लगते हैं जैसे खाना ना खाना, पूरी नींद ना लेना आदि। लेकिन ऐसा ना करें। स्वस्थ दिनचर्या अपनाएं, स्वस्थ खाएं, सही समय पर स्नैक्स लें, पर्याप्त प्रोटीन खाएं।

अपनी रुचियों को जिएं
बाइपोलर डिसऑर्डर के दौरान जब आप डिप्रेशिव मूड में नहीं है तो इस दौरान आपको अपनी रुचि को पूरा करने में समय बिताना चाहिए ताकि आप अच्छा महसूस करें।

लोगों से जुड़ें

Natural treatments for bipolar disorder
अकेले ना रहें, लोगों के साथ समय बिताएं।

बाइपोलर डिसऑर्डर के दौरान अकेले रहने से आपका डिप्रेशन बढ़ सकता है। इसलिए लोगों से जुड़ें, बात करें और करीबियों के साथ समय बिताएं।

पर्याप्त नींद लें
बाइपोलर डिसऑर्डर के दौरान लोगों को नींद लेने में परेशानी हो सकती है। इसलिए आपको पर्याप्त नींद लेने की कोशिश करनी चाहिए और एक ही स्लीपिंग पैटर्न अपनाना चाहिए। हर रोज एक ही समय पर सोएं और उठें।

[जरुर पढ़ें: बाइपोलर डिसऑर्डर के संकेतों से राहत दिलाने में फायदेमंद हैं योग]

ये कुछ प्राकृतिक तरीके हैं जिनकी मदद से आप बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षणों को कम कर सकते हैं। आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "