वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने के लिए उपाय

Ways to communicate positive energy in the environment

विचार सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकार के होते हैं। आपके विचार जैसे होंगे आपके आसपास का वातावरण भी आपको वैसा ही महसूस होगा। लॉ ऑफ अट्रैक्शन के अनुसार, अगर हम वातावरण को गुड वाइब्स यानि अच्छी तरंगे भेजते हैं तो हमारे पास भी अच्छी तरंगे लौटकर आती हैं और आसपास का वातावरण सकारात्मक बनता है। सकारात्मकता की शक्ति को तो आप जानते ही हैं लेकिन हर परिस्थिति में सकारात्मक रहना और अपने आसपास सकारात्मकता का संचार करना काफी मुश्किल होता है। इसलिए आइए जानते हैं कि कैसे हर परिस्थिति में आप सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर सकते हैं। [ये भी पढ़ें: सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर को दूर करने के प्राकृतिक उपाय]

1.प्रकृति के साथ समय बिताएं: प्रकृति की खूबसूरती आपको सकारात्मकता का एहसास करवाती है। प्रकृति के साथ समय बिताने से तनाव कम होता है और सकारात्मक ख्याल आते हैं जो कि हमारे आसपास सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते हैं।

2.सुरों से रिश्ता जोड़ें: सुर, वाणी, संगीत आपके मूड पर काफी प्रभाव डालते हैं। मूड को ठीक करने के लिए सुरों से रिश्ता जोड़ें। संगीत आपके दिमाग के तनाव को कम करता है और विचारों में सकारात्मकता लाता है।[ये भी पढ़ें: अगर आप फंसा हुआ महसूस करते हैं तो अपने जीवन में क्या बदलाव करें]

3.योग और मेडिटेशन: सकारात्मक ऊर्जा और तरंगों को संचरित करने का यह सबसे अच्छा माध्यम है। ओम शब्द की ध्वनि वातावरण में सकारात्मकता संचरित करने के लिए प्रमाणित है। मेडिटेशन आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए सबसे जरुरी है। मेडिटेशन आपको मन और तन दोनों की शांति तो देता ही साथ यह आपको दूसरों के प्रति एक सकारात्मक भाव और सही सोच को उत्पन्न करने के लिए प्रेरित भी करता है। यह व्यक्ति को सभी प्रकार की चिंताओं से दूर रखता है।

4.पानी: पानी शरीर को अंदर और बाहर से शुद्ध करने के लिए उपयोगी होता है। पानी शरीर से टॉक्सिन निकालता है और हाइड्रेट भी करता है। रोजाना काम करने के बाद नहाने से प्राप्त शुद्धता सकारात्मकता की सौगात देती है।

5.एरोमाथेरेपी: यह एक ऐसी थेरेपी है जिसमें खुशबू के प्रयोग से व्यक्ति के मन में शांति का भाव उत्पन्न किया जाता है। इसके लिए तरह-तरह के खुशबू प्रयोग में लाई जाती हैं। इसका प्रयोग आप अपने कमरे में तरह-तरह की खुशबू फैला कर सकतें हैं। [ये भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आपका दिमाग ज्यादा सोचने का शिकार हो रहा है]

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "