Weight training for mental health: वेट ट्रेनिंग कैसे मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करता है

Read in English
Reasons Weight Lifting is Good for Mental Health

Weight training for mental health: मानसिक स्वास्थ्य के लिए वेट ट्रेनिंग बेहतर होता है

Weight training for mental health: यह ज्ञात तथ्य है कि वेट ट्रेनिंग शरीर की फिटनेस और ताकत के लिए फायदेमंद होती है। वेट ट्रेनिंग का लगातार अभ्यास ना केवल ताकत बनाने में मदद करता है बल्कि शरीर में सहनशक्ति, धीरज और संतुलन को भी बढ़ाता है। इसके अलावा, वेट ट्रेनिंग मानसिक स्वास्थ्य से भी जुड़ा हुआ होता है। मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए यह बहुत फायदेमंद है। वेट ट्रेनिंग मस्तिष्क में कई हार्मोन की सकारात्मक एकाग्रता को ट्रिगर करता है। ये हार्मोन तनाव से छुटकारा पाने के लिए फायदेमंद होते हैं। अभ्यास रक्त प्रवाह को बढ़ाकर मस्तिष्क कोशिकाओं के विकास के लिए एक अनुकूल वातावरण भी प्रदान करता है। ऐसे में आपको वेट ट्रेनिंग का नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए ताकि आप शारीरिक के साथ-साथ मानसिक रूप से भी स्वस्थ और मजबूत रह सकें। [ये भी पढ़ें: परिस्थितियों को अवसर में कैसे बदलें]

Weight training for mental health: कैसे वेट ट्रेनिंग मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहतर होता है:

  • आत्म-विश्वास को बूस्ट करता है
  • नींद में सुधार
  • खुशी की भावना
  • फोकस बढ़ाता है
  • मेमोरी को बूस्ट करता है

आत्म-विश्वास को बूस्ट करता है:

Lifting Weights Can Improve Mood
Weight training for mental health: वेट ट्रेनिंग आत्म-विश्वास बढ़ाता है

वेट-लिफ्टिंग ट्रेनिंग प्रभावी ढंग से आत्मविश्वास को बढ़ाता है। वेट ट्रेनिंग का अभ्यास ठीक तरीके से काम करता है और आप खुद को मजबूत महसूस करने लगते हैं। यह निश्चित रूप से दिमाग पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। इसके अलावा, वेटलिफ्टिंग संतुष्टि की भावना भी प्रदान करता है जो व्यक्तियों के आत्मविश्वास के स्तर में सुधार करने में मदद करता है।  [ये भी पढ़ें: हर परिस्थिति में तुरंत आत्म-विश्वास बढ़ाने के लिए आजमाएं आसान टिप्स]

नींद में सुधार:
ट्रेनिंग नींद की गुणवत्ता में सुधार के लिए फायदेमंद होता है। पर्याप्त नींद निश्चित रूप से मांसपेशियों के ऊतकों को रिपेयर करता है और यह कल्याण, उत्पादकता और खुशी से भी जुड़ा हुआ होता है। इसके विपरीत, पर्याप्त नींद शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ाता है। कोर्टिसोल हार्मोन आमतौर पर तनाव से जुड़ा हुआ होता है।  [ये भी पढ़ें: अजीब चीजें जो आपको बेहतर नींद दिला सकती हैं]

खुशी की भावना:
यदि आप स्थिरता के साथ व्यायाम करते हैं, तो शरीर एंडोर्फिन नामक हार्मोन रिलीज करता है। यह हार्मोन शरीर में सकारात्मक भावना को बढ़ाता है। खुश होने से मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

फोकस बढ़ाता है:
वेट ट्रेनिंग एक यौगिक व्यायाम है, जिसका अर्थ है कि आप एक ही समय में अनेकों मांसपेशियों को शामिल कर सकते हैं। यह आपके मस्तिष्क को ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है।  [ये भी पढ़ें: ब्रेन हैक्स जो क्रिएटिविटी, फोकस और आईक्यू को बढ़ाते हैं]

मेमोरी को बूस्ट करता है:
वेट ट्रेनिंग मेमोरी में सुधार करता है। वेट लिफ्टिंग ट्रेनिंग का अभ्यास लघु और दीर्घकालिक स्मृति दोनों में सुधार कर सकता है।

[ये भी पढ़ें: Emotional growth: संकेत कि आपकी इमोशनल ग्रोथ हो रही है]

वेट ट्रेनिंग ना केवल शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है बल्कि नियमित रूप से इसका अभ्यास मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार करता है।

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "