UP Board Result 2018: आपके दोस्त के मार्क्स आपसे ज्यादा हैं तो अपनी जलन की भावना को कैसे कम करें

Read in English
Tips to handle jealousy when you friend scores better than you

यह अच्छी तरह से ज्ञात तथ्य है कि विफलता और सफलता जीवन का एक हिस्सा होता है। भविष्य में सफलता हासिल करने के लिए हर किसी को अपनी विफलताओं से सीखना जरूरी होता है। हैरानी की बात है, जो छात्र बोर्ड परीक्षा के लिए उपस्थित होते हैं, वे इसे समझ नहीं पाते हैं। वे ईर्ष्या महसूस करने लगते हैं, यदि उनके मित्र बेहतर ग्रेड प्राप्त करते हैं तो उन्हें उनके प्रति ईर्ष्या की भावना आने लगती है। ईर्ष्या एक एक ऐसी भावना है जो आपके मस्तिष्क को प्रभावित करती है। इसके अलावा, छात्रों को यह भी चिंता रहती है कि यदि वे ईर्ष्या की भावना को खत्म नहीं करेंगे तो इसकी वजह से उनकी दोस्ती खराब हो सकती है। लेकिन इसकी वजह से परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप इस स्थिति से बाहर आ सकते हैं। आइए जानते हैं आपके दोस्त के मार्क्स आपसे ज्यादा हैं तो अपनी जलन की भावना को कैसे कम की जा सकती है।

स्वीकार करें कि आप जलन महसूस कर रहे हैं:
अगर आपको अपने दोस्त से ईर्ष्या की भावना महसूस होने लगी है तो आपको इस भावना को दूर करने के लिए सबसे पहले इस बात को स्वीकार करने की जरूरत है।

ईर्ष्या महसूस करने के कारण को पहचानें:
आपको ईर्ष्या का वास्तविक कारण जानने की जरूरत है तब ही आप इससे बाहर निकल पाएंगें। जब आप खुद के प्रति ईमानदान होंगे तो आप अपने अंदर की इस भावना को दूर कर पाएंगें।

अपनी ईर्ष्या के बारे में अपने दोस्त को बता दें:
अगर आपको लगता है, तो आप अपने मित्र को अपनी ईर्ष्या कबूल कर सकते हैं। अपनी भावनाओं के बारे में ईमानदार होना आपके लिए फायदेमंद होता है।

अपने आप पर भरोसा रखें:
यदि आप अपने आप पर भरोसा करते हैं तो आप इस ट्रस्ट को दूसरों पर प्रसारित कर सकते हैं। अपने बारे में सभी अच्छी चीजों की सूची बनाएं। फिर देखिए आप इस समस्या से बाहर निकल जाएंगें।

यूपी बोर्ड 2018 एग्जाम के परिणाम घोषित होने वाले हैं। हर साल की तरह इस साल भी 10वीं और 12वीं की परीक्षा में लाखों बच्चों ने दी हैं। 2018 में यूपी बोर्ड के एग्जाम में लगभग 66.37 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया, जिनमें कक्षा 10 के लगभग 34,04,571 छात्रों ने परीक्षा दी जो 6 फरवरी-22 फरवरी तक आयोजित की गई थी। वहीं इस साल यूपी बोर्ड की कक्षा 12वीं के लगभग 26,24,681 छात्र परीक्षा में बैठे जो 6 फरवरी-12 मार्च तक आयोजित की गई थी।
जहां 2018 में लगभग 66.37 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया तो वहीं 2017 में लगभग 60.29 लाख छात्रों ने परीक्षा दी थी। यूपी बोर्ड 2017 में 10 वीं के लगभग 34,01,511 छात्रों ने परीक्षा दी थी। जिनमें 81.6 प्रतिशत बच्चे पास हुए थे। 2017 में हुए 10वीं की परीक्षा में 86.50 प्रतिशत लड़कियां और 81.6 प्रतिशत लड़के पास हुए थे। 10वीं का हाईएस्ट स्कोर 95.83 प्रतिशत था। यूपी बोर्ड 2017 की 12वीं की परीक्षा में 26,54,492 छात्र शामिल हुए थे जिनमें से 81.6 प्रतिशत बच्चे पास हुए थे। पास होने वाले छात्रों में 86.50 प्रतिशत लड़कियां तो वहीं 76.75 प्रतिशत लड़के पास हुए थे। 12 वीं का हाईएस्ट स्कोर 96.20 प्रतिशत था।

 

उपयोग की शर्तें

" यहाँ दी गयी जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ सभी सामग्री केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि यहाँ दिए गए किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है। अगर यहाँ दिए गए किसी उपाय के इस्तेमाल से आपको कोई स्वास्थ्य हानि या किसी भी प्रकार का नुकसान होता है तो lifealth.com की कोई भी नैतिक जिम्मेदारी नहीं बनती है। "